हिमाचल दे रहा अन्य राज्यों को सेहत की खुराक, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन तथा जीवनरक्षक दवाओं की उत्पादन में बढ़ोतरी

हिमाचल प्रदेश कोरोना संकट के बीच देश-विदेश को सेहत की खुराक देने में जुट गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार यहां मौजूद 550 फार्मा कंपनियों में से 386 में लॉकडाउन के बाद उत्पादन ने रफ्तार पकड़ ली है। देश के दवा उत्पादन में हिमाचल की हिस्सेदारी 35 प्रतिशत है, ऐसे में यह राहत भरी बात है।

यहां तमाम जीवनरक्षक दवाओं का उत्पादन वापस पटरी पर लौट रहा है। हालांकि लॉकडाउन के कारण कुछ समस्याएं पेश आ रही हैं, जिन्हें सरकार दूर करने में जुटी है। इन दवाओं की आपूर्ति देश को हो रही है ख़ास बात यह है की विदेश को निर्यात भी किया जा रहा है।

देश विदेश में भेजेी जा रही दवाइयाँ

जानकारी के अनुसार फार्मा कंपनियों का कहना है कि यदि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रलय की ओर से इन दवाओं की मांग तेज होती है तो इसके लिए भी पूरी तैयारी है। लॉकडाउन का असर दवा उद्योग पर भी पड़ा है, लेकिन अब हालात सुधर रही हैं। प्रदेश में सामान्य उत्पादन होना शुरू हो गया है। लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में दवा उत्पादन 25 फीसद से कम हो गया था।

50 कंपनियों में से 12 में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन दवा का उत्पादन

लेकिन अब 550 फार्मा कंपनियों में से 386 उत्पादन कर रही हैं। इनमें जीवनरक्षक दवाओं, वैक्सीन व अन्य आवश्यक दवाओं का उत्पादन हो रहा है। 50 कंपनियों में से 12 में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन दवा का उत्पादन किया जा रहा है। प्रदेश में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन के अतिरिक्त कई तरह की दवाओं का उत्पादन हो रहा है।

सरकार की ओर से प्लांट में कर्मचारियों को काम करने को लेकर जो प्रोटोकॉल है, उसके मुताबिक काम हो रहा है। कफ्यरू के कारण हालांकि प्लांट में फिलहाल केवल 500 कर्मचारी ही पहुंच रहे हैं। तथा सरकार द्वारा बनाये गए सभी नियमो का पालन किया जा रहा है।

Himachal giving other states increased production of health supplements, hydroxychloroquine and life saving drugs

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *