स्वास्थ्य निदेशक के मामले को लेकर बोले पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा, सीबीआई से करवाई जाए पुरे मामले की जांच

himachal pradesh ex mla

हिमाचल प्रदेश के निवासी तथा आल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सचिव और पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा ने गिरफ्तार स्वास्थ्य निदेशक को पुलिस रिमांड पर लेने की जगह न्यायिक हिरासत में भेजने पर हैरानी जताई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए मामले की निष्पक्ष जांच सीबीआई से करवाने की मांग की है।

इसी के साथ उन्होंने उच्च न्यायालय से भी मामले पर स्वत संज्ञान लेने की अपील की है। इसी के साथ उन्होंने कहा कि किसी भी गंभीर अपराध में अगर कोई गिरफ्तार होता है तो उसे सीआरपीसी की धारा 167 के तहत पुलिस रिमांड में लिया जाता है।

मामले में अपराधी को पहले पूछताछ के लिए बुलाया गया और गिरफ्तार करने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती किया गया

इसकी साथ उन्होंने यह भी कहा की अधिकतम अवधि 15 दिन तक हो सकती है। इस मामले में अपराधी को पहले पूछताछ के लिए बुलाया गया और गिरफ्तार करने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती किया गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस को अपराधी की पुलिस कस्टडी मांग कर पूछताछ करनी चाहिए थी। सुधीर शर्मा ने कहा कि कानूनन न्यायिक हिरासत में किसी व्यक्ति को तभी भेजा जाता है।

न्यायिक हिरासत में भेज कर अपराधी निदेशक को पूरी छूट दी गई ( सुधीर शर्मा )

जब उससे पुलिस को न तो कुछ बरामद करना हो और न ही पूछताछ करनी हो, पर यहां पहले ही दिन न्यायिक हिरासत में भेज कर अपराधी निदेशक को पूरी छूट दी गई कि वह जो भी जरूरी दस्तावेज के साथ छेड़छाड़ कर सके और जो सबूत हो उन्हें मिटा सके। इस मामले से हिमाचल की बदनामी हो रही है।

इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा की कहीं ऐसा तो नहीं है कि उसे बचाने के लिए पुलिस कस्टडी मिलने के जानबूझ कर न्यायिक हिरासत में लिया गया है। जो कथित ऑडियो टेप सामने आई है और इसमें निदेशक एक व्यक्ति से लेन-देन की बात कर रहे हैं और उस व्यक्ति को राजनीतिक रसूख वाला बताया जा रहा है। उसकी भी अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है।

नहीं हो रही ठीक से जांच

इससे पता चलता है कि जांच का रवैया ढुलमुल है। तथा जांच सही से नहीं हो रही है। अगर उस व्यक्ति की गिरफ्तारी समय रहते नहीं होती है तो वह जांच संबंधी दस्तावेजों से छेड़छाड़ करवा सकता है। कहा कि दोनों की गिरफ्तारी साथ होनी चाहिए थी। तथा सख्त से सख्त करवाई की जाए जाने चाहिए थी।

Former Minister Sudhir Sharma said about the matter of Health Director, CBI should get the entire case investigated

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *