हिमाचल में लगे लॉकडाउन के चलते भारी वित्तीय संकट से जूझ रही सरकार को आबकारी विभाग ने कमाए 1,180 करोड़

himachal pradesh

हिमाचल प्रदेश में लगे लॉकडाउन के चलते भारी वित्तीय संकट से जूझ रहे प्रदेश के लिए आबकारी विभाग बड़ी राहत की खबर लाया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार विभाग ने नए वित्त वर्ष के लिए लंबित शराब ठेकों का आवंटन कर दिया गया है। इसके साथ ही विभाग ने शराब ठेकों का आवंटन कर फीस के तौर पर 1,180 करोड़ रुपये अर्जित कर लिए हैं।

यह राशि विभाग द्वारा अनुमानित 1,190 करोड़ के लक्ष्य से महज 10 करोड़ कम है। खास बात यह है कि यह अच्छी खबर ऐसे समय में आई है, जब हिमाचल प्रदेश के हर विभाग और हर क्षेत्र में भारी आर्थिक नुकसान की खबरें आ रही हैं। इसी बिच ऐसी खबर आने से सरकार को भेहद राहत मिली है।

लॉकडाउन की वजह से नीलामी प्रक्रिया बीच में ही रुक गई थी

जानकारी के अनुसार प्रमुख सचिव आबकारी संजय कुंडू ने बताया कि शिमला में इस साल नीलामी से 2.30 करोड़ जबकि नूरपुर में 6.03 करोड़, कांगड़ा में 4.80 करोड़, सिरमौर में 22.39 करोड़ अर्जित किए गए हैं। इसी के साथ उन्होंने बताया कि 22 मार्च से पहले बाकी जिलों में शराब ठेकों का आवंटन हो गया था लेकिन लॉकडाउन की वजह से यह प्रक्रिया बीच में ही रुक गई थी।

इसी लिए अब जब शराब ठेके दोबारा खुल गए हैं और आर्थिक गतिविधियां शुरू हो गई हैं तो विभाग ने बचे ठेकों की नीलामी की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। इसी के साथ कुंडू ने बताया कि पिछले साल विभाग को इस प्रक्रिया से 959 करोड़ की आय हुई थ।

लॉकडाउन के बावजूद पिछले साल से आय 120 करोड़ रुपये ज्यादा कमाई

जबकि इस साल लॉकडाउन के बावजूद पिछले साल से आय 120 करोड़ रुपये ज्यादा है। साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि इस साल एक भी शराब के ठेके को नेगोसिएशन के तहत आवंटित नहीं किया गया है। इसी के साथ उन्होंने यह भी बताया कि शराब ठेकों को लेकर नया वित्त वर्ष 1 जुलाई से शुरू होगा ताकि नए ठेकेदारों को आर्थिक परेशानी न हो। इस लिए विभिन्न कदम उठाये जाएंगे।

The excise department earned 1,180 crores to the government, which is facing heavy financial crisis due to the lockdown in Himachal.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *