हिमाचल से डेढ़ लाख किराया देकर निजी बस द्वारा बिहार और उत्तर प्रदेश लौट गए दर्जनों मजदूर

himachal pradesh

देश भर में लगे लॉकडाउन के बीच हिमाचल प्रदेश में प्रवासी मजदूरों के पलायन का सिलसिला जारी है। प्रदेश के ऊना जिले के सरहदी क्षेत्र मैहतपुर-बसदेहड़ा और रायपुर सहोड़ां से 37 मजदूरों के बिहार लौटने की सूचना है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि ये मजदूर अपने खर्चे पर एक निजी बस के जरिये घर लौट गए हैं। सरकार द्वारा इन्हे किसी भी प्रकार की कोई मदद नहीं मिली है घर जाने में,

इन मजदूरों ने करीब डेढ़ लाख रुपये निजी बस को भाड़े के रूप में दिया है। इधर, लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू होते ही ऊना जिले से बड़े पैमाने पर प्रवासी मजदूरों ने पलायन की तैयारी कर ली है। ये लोग अब घर लौटना चाहते हैं। मगर परेशानी की बात यह है की इन्होने घर जाने के लिए भारी राशि बस वाले को दी है।

750 प्रवासी मजदूरों ने उपायुक्त कार्यालय में आवेदन देकर घर वापस भेजने की गुहार लगाई

हिमाचल प्रदेश में जिले के पांचों विकास खंडों से लगातार प्रशासन के पास इन प्रवासी मजदूरों के आवेदन मिल रहे हैं। इसी के साथ अकेले ऊना विकास खंड से ही 750 प्रवासी मजदूरों ने उपायुक्त कार्यालय में आवेदन देकर घर वापस भेजने की गुहार लगाई है। जिले के अन्य चार विकास खंडों को मिलाकर 4,500 प्रवासी मजदूरों के आवेदन डीसी ऑफिस में रजिस्ट्रर्ड हो चुके हैं।

इसी के साथ अपने स्तर पर सैकड़ों प्रवासी मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार राज्यों को लौट भी चुके हैं। इन मजदूरों का कहना है कि लॉकडाउन के चलते न तो उनके पास अब पहले जैसा काम बचा है, और न पर्याप्त राशन है, जो यहां बिना काम धंधा किए रह सकें।

मजदुरो ने अपने प्रदेश की सरकार से निराशा जताई, तथा हिमाचल सरकार का किया धन्यबाद

जब दिहाड़ी ही नहीं लगेगी तो यहां रहकर क्या करेंगे। इस लिए उन्हें घर जाना ही बेहतर लग रहा है। घर जाने के लिए ना ही इन्होने कहा की हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री से हमे कोई मदद नहीं मिली। सरकार उन्ही को लेकर आ रही है। जो बड़े लोग है।

हम मजदूरों के लिए भला क्यों कोई इतना कष्ट करेगा। साथ ही इन बिहार के लोगो ने हिमाचल सरकार का धन्यवाद किया है। की उन्हें उनके घर जाने के लिए अनुमति दे दी गयी है। साथ ही इन्होने उत्तर प्रदेश और बिहार राज्यों की सरकार के खिलाफ निराशा जताई है।

Dozens of laborers returned to Bihar and Uttar Pradesh by private bus from Himachal paying 1.5 lakhs fare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *