मनाली-लेह मार्ग छह महीने बाद बहाल, बर्फ हटाने का कार्य हुआ पूरा

rohtang pass

हिमाचल प्रदेश में पांच बर्फीले दर्रों पर बर्फ की कई फीट ऊंची दीवारों को काटकर छह महीने बाद सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण मनाली-लेह मार्ग बहाल कर दिया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार 16,050 फीट ऊंचा बारालाचा दर्रा बहाल होते ही सीमावर्ती क्षेत्र लेह-लदाख अब मनाली से जुड़ गया है।

भारतीय सेना को चीन और पाकिस्तान की सीमा तक

जिस बजह से लाहौल वासियो को बेहद राहत मिली है। इसी के साथ चीन और पाकिस्तान की सीमा तक सेना के जवानों को पहुंचने में अब आसानी होगी। इस बहाली भारतीय सेना को बेहद लाभ मिल पायेगा। बारालाचा दर्रे पर सोमवार सुबह बर्फबारी के कारण वाहनों की आवाजाही एक-दो दिनों के भीतर ही हो सकेगी।

के चीफ इंजीनियर ब्रिगेडियर एमएस बाघी भी बारालाचा पहुंचे

जानकारी के अनुसार बीआरओ के बीआरटीएफ के कमांडर कर्नल उमाशंकर ने कहा कि विकट परिस्थितियों में भी पिछले साल की अपेक्षा लगभग तीन सप्ताह पहले ही इस मार्ग को बहाल करने में सफलता मिली है। साथ ही टीम का हौसला बढ़ाने बीआरओ की दीपक परियोजना के चीफ इंजीनियर ब्रिगेडियर एमएस बाघी भी बारालाचा पहुंचे।

इसी के साथ जिला मुख्यालय केलांग में सोमवार को जनजातीय विकास परियोजना सलाहकार समिति की बैठक हुई तथा इसकी अध्यक्षता कृषि मंत्री डॉ. रामलाल मारकंडा ने की। उन्होंने बैठक में यह बताया कि वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए लाहौल के लिए कुल बजट 62 करोड़ 51 लाख आवंटित किया गया है।

Manali-Leh road restored after six months, relief to Lahaul residents, snow removal work completed

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *