नाबार्ड की ओर से हिमाचल को 350 करोड़ रुपए जारी ,बाज़ार में पैसे का संचालन हो सकेगा शुरू, आर्थिक स्तिथि में होगा बदलाव

हिमाचल प्रदेश में फैले कोरोना के कारण प्रदेश भर में अशांति का महौल है। ऐसे में प्रदेश के तीन सहकारी बैंकों को नाबार्ड की ओर 350 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद मिली है। प्राप्त जानकारी के अनुसार नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक निलय डी कपूर ने बताया कि नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालय शिमला ने राज्य के तीन सहकारी बैंकों को विशेष तरलता सुविधा के रूप में 350 करोड़ रुपए जारी किए हैं। ताकि बैंकों द्वारा कोविड-19 के आउट-ब्रेक के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में ऋण परिचालन शुरू करना सुनिश्चित किया जा सके।

विभिन्न जिलों को राशि आवंटित

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश राज्य सहकारी बैंक, शिमला को इसके अलावा 200 करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि भी आबंटित की गई है, जिसका संवितरण शीघ्र किया जा सकेगा। इस से प्रदेश की आर्थिक स्थिती में थोड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है।

जानकारी के अनुसार इन 350 करोड़ में से 206 करोड़ राज्य सहकारी बैंक शिमला को, 112 करोड़ कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक, इसी के साथ धर्मशाला और 32 करोड़ जोगिंद्रा केंद्रीय सहकारी बैंक, सोलन को संवितरित किया गया है। जिससे अपने कृषि कार्यों को सुचारू रूप से चलाने के लिए किसानों को बैंकों से निर्बाध ऋण प्रवाह को सुनिश्चित किया जा सके।

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नाबार्ड को उपलब्ध करवाए गए 25,000 करोड़

इस से प्रदेश के विभिन्न किसानो को लाभ मिल पायेगा। यह विशेष तरलता सुविधा ग्रामीण बैंक तथा सहकारी बैंकों और सूक्ष्म वित्तीय संस्थानों को तरलता सहायता प्रदान करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नाबार्ड को उपलब्ध करवाए गए 25,000 करोड़, जोकि भारत सरकार की वित्त मंत्री के राहत पैकेज के अंतर्गत है। हिमाचल प्रदेश के तीन सहकारी बैंकों को मिली इस राशि से यहां पर लोन का आबंटन तेज हो सकेगा।

वित्तीय में होगी बढ़ोतरी

हिमाचल प्रदेश के ग्रामीण लोगोको को इस लाभ मिल पायेगा। क्योंकि इन बैंकों की भी वित्तीय स्थिति उस तरह की नहीं है। ऐेसे में अब नाबार्ड से सहायता मिलने के बाद ये बैंक आगे लोन दे सकेंगे, जिससे वित्तीय तरलता बढ़ेगी और मार्केट में पैसे का संचालन हो सकेगा। साथ ही कोरोना की कारण जो हिमाचल की आर्थिक स्तिथि में जो बदलाव आये थे उस में भी सुधर हो पायेगा।

Rs 350 crore released to Himachal by NABARD, money will start operating in the market, financial situation will change

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *