सरकाघाट क्षेत्र के कोरोना संक्रमित मृतक युवक की मां की रिपोर्ट निगेटिव, जीती कोरोना जंग, बेटे के गम में बिलख-बिलख कर रोइ मां

mandi

हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी के सरकाघाट क्षेत्र के कोरोना संक्रमित मृतक युवक की मां की रिपोर्ट निगेटिव आने पर रविवार को महिला को चैलचौक स्थित निजी अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। प्राप्त

जानकारी के अनुसार डिस्चार्ज होते ही महिला अपने बेटे के गम में बिलख-बिलख कर रो पड़ी। महिला को रोता देख चैलचौक कोविड सेंटर के पूरे स्टाफ की आंखों से आंसू छलक आए। वहीं महिला के जेठ को भी अस्पताल से छुट्टी दे गई। इस महिला ने कोरोना की जंग में जित हासिल कर ली है।

फूल बरसा के अलविदा किया महिला को घर के लिए

जानकारी के अनुसार व्यक्ति की रिपोर्ट पहले ही निगेटिव आ चुकी है, लेकिन तबीयत खराब होने के चलते उसे भी अस्पताल में रखा गया था। इसी के साथ रविवार को जब दोनों को छुट्टी दी गई तो निजी अस्पताल प्रबंधन, स्वास्थ्य कर्मचारियों और प्रशासनिक अधिकारियों ने कोरोना जैसी महामारी पर विजय पाने के चलते महिला और उसके जेठ पर फूल बरसाए।

एसडीएम गोहर अनिल भारद्वाज ने महिला और उसके जेठ को रविवार को डिस्चार्ज करने की पुष्टि की

इसके साथ ही एसडीएम गोहर अनिल भारद्वाज ने सरकाघाट की महिला और उसके जेठ को रविवार को डिस्चार्ज करने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि दोनों को एंबुलेंस के माध्यम से घर भेजा गया है। अब दोनों अब ठीक हैं। साथ ही दोनों के घर जाते ही सभी गांव वालो ने स्वागत किया गया है।

महिला ने कहा की में बेटे के साथ गयी थी लेकिन खाली हाथ लोटी हूँ।

बेटे दिनों सरकाघाट के चौक ब्राड़ता क्षेत्र के कोरोना संक्रमित युवक की शिमला में मौत हो गई थी। जानकारी के अनुसार इसके बाद उसकी मां की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उसे शिमला से चैलचौक कोविड सेंटर भर्ती किया गया था। महिला को कोरोना अपने बेटे का कारण हुआ था। बोलते है माँ, माँ ही होती इस का उदाहरण है

यह महिल इसके साथ उसके जेठ को भी बुखार आने पर कोविड सेंटर भर्ती किया था। दोनों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें रविवार को घर भेज दिया गया। घर पहुंचते ही महिला ने यह कहा की में बेटे के साथ गयी थी लेकिन खाली हाथ लोटी हूँ ।

कोरोना वायरस से जंग जीतने वाली महिला के चेहरे पर बेटे की मौत का दर्द साफ दिखा

कोरोना वायरस से जंग जीतने वाली महिला के चेहरे पर बेटे की मौत का दर्द साफ दिखा। रविवार को वह अपने घर पहुंचीं तो एंबुलेंस में ही फूट-फूट कर रोने लगी थी यह महिला जब उन्हें एंबुलेंस से उतरने को कहा गया तो भी वह बेहद भावुक हो गईं। और महिला ने रोते हुए कहा कि मैं बेटे को साथ लेकर गई थी और खाली हाथ लौटी हूं। मां के विलाप को सुनकर तथा अपने बेटे के प्रति प्यार को देख कर वहां मौजूद हर किसी की आंखों में आंसुओं का सैलाब था।

Report of mother of corona infected deceased youth of Sarkaghat area negative, won Corona Jung, mother wept bitterly in son’s sorrow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *