जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाकर मानवता की मिसाल पेश कर रहा, जनजातीय क्षेत्र लाहौल-स्पीति का एक परिवार

हिमाचल प्रदेश में फैली कोरोना वैश्विक महामारी के इस मुश्किल दौर में जहां पूरी दुनिया घरों में कैद है, वहीं दूसरी और हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति का एक परिवार जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाकर मानवता की मिसाल पेश कर रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस परिवार के छह डॉक्टर भी कोरोना कर्मवीर बनकर वैश्विक महामारी के खिलाफ इस जंग में अहम भूमिका निभा रहे हैं। साथ ही जरुरतमंदो के लिए महिसा बन रहे है।

95 परिवारों के करीब 350 सदस्यों को खाद्यान्न के अलावा साबुन, सैनिटाइजर की सुविधा करवा चुके है उपलब्ध

हिमाचल प्रदेश के लाहौल के जाहलमा और गोहरमा गांव का वैद्य परिवार कोरोना संक्रमण की इस मुश्किल घड़ी विभिन्न स्थानों से रह रहे लोगो की मदद कर रहा है। जिसमे पंजाब, उत्तरप्रदेश, बिहार और नेपाल के कुल्लू के विभिन्न इलाकों में रह रहे 95 परिवारों के करीब 350 सदस्यों को खाद्यान्न के अलावा साबुन, सैनिटाइजर और मास्क वितरित कर चुका है। साथ ही यह सभी गरीब और बेसहारा लोगो की भी मदद कर रहे है।

वरिष्ठ सदस्य डॉक्टर रणजीत वैद्य ने कहा कि कोई गरीब भूखा न सोए

इस वैद्य परिवार ने इस मुहिम के लिए अपने ही परिवार के सदस्यों से 91 हजार रुपये एकत्रित कर मुश्किल दौर में जरूरतमंद लोगों की मदद की है। साथ ही इस परिवार के वरिष्ठ सदस्य डॉक्टर रणजीत वैद्य ने कहा कि कोई गरीब भूखा न सोए, इसलिए जरूरत पड़ने पर वैद्य परिवार और भी धन एकत्रित करेगा। सारः ही उन्होंने यह भी कहा की उन से जितना हो पायेगा वो उतना करेंगे।

डॉ. रणजीत वैद्य खुद लाहौल में कोविड-19 के सर्विलेंस अधिकारी के रूप में सेवाएं दे रहे

जानकारी के अनुसार डॉ. रणजीत वैद्य खुद लाहौल में कोविड-19 के सर्विलेंस अधिकारी के रूप में सेवाएं दे रहे हैं। इसी के साथ उनके भतीजे डॉ. अजय वैद्य और डॉ. संजीव वैद्य कुल्लू और नाहन में कोरोना कर्मवीर की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इसी के साथ कृषि मंत्री डॉ. रामलाल मारकंडा ने भी परिवार के कार्यों की सराहना की है। साथ ही उन्हें समय आते ही सम्मानित करने की बात भी कहि है।

A family of Lahaul-Spiti, a tribal area, set an example of humanity by helping the needy.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *