दो महीने बाद कोलकाता से दुल्हन लेकर लौटे 18 बाराती, दुल्हन सहित सभी क्वारंटाइन

marrage in himachal

हिमाचल प्रदेश में एक अनोखा मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आसमान से गिरे खजूर पर अटके वाली कहावत दुल्हन को लेने कोलकाता गई कुटलैहड़ पहुंची बारात के लोगों पर चरितार्थ हो रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अपने गांव की कुछ दूरी पर बने क्वारंटाइन सेंटर में ये 18 बाराती प्रशासन द्वारा ठहराए गए हैं।

इसी के साथ 21 मार्च को ये बाराती उपमंडल बंगाणा के गांव परोइयां से दुल्हन को लाने के लिए कोलकाता पहुंचे थे। परन्तु देश में कोरोना वायरस के संकट के चलते दूसरे ही दिन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू की घोषणा कर दी।

लॉकडाउन होने के कारण ये लोग कोलकाता में ही फंस गए

जिस बजह से 23 मार्च को देश में पहला लॉकडाउन भी घोषित हो गया। इसी के साथ एक के बाद दूसरा और दूसरे के बाद तीसरा लॉकडाउन होने के कारण ये लोग कोलकाता में ही फंस गए। जिस बजह से इन को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ा। इसके साथ दुल्हे के परिवार वालों का कहना है कि 25 मार्च को घर वापसी की रेल टिकटें बुक थी।

जिलाधीश सोलन के प्रयासों से अब बस के माध्यम से अपने गांव की सीमा तक ही पहुंच सके हैं

लेकिन देश भर में लॉकडाउन के कारण सब योजनाएं फेल हो गईं। घर वापसी के लिए प्रदेश सरकार से संपर्क किया गया, तब जाकर जिलाधीश सोलन के प्रयासों से अब बस के माध्यम से अपने गांव की सीमा तक ही पहुंच सके हैं। शादी में बारात में गए रिश्तेदारों का कहना है कि ये शादी वो उम्र नहीं भूल पाएंगे, क्योंकि विकट परिस्थितियों में दिन गुजारे हैं। उन्होंने प्रदेश सरकार का भी आभार जताया है।

याद आया पुराना जमाना

क्योंकि इनके खाने और पीने की व्यवस्था वहीं कर दी गई थी, जिससे इन लोगों को कुछ राहत तो अवश्य मिली। तथा उनका कहना है की ऐसी शादी उन्होंने पहले कभी नहीं देख। शादी में बारातियों का कहना है कि एक बार फिर पुराने जमाने की याद आ गई। जब बारातें कई-कई दिन लड़की पक्ष के घरों में रुकती थीं। इन लोगों को यह शादी भूलने वाली नहीं है।

After 18 months, 18 wedding processions returned with bride from Kolkata, will not be able to forget this marriage – wedding, all quarantine including bride

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *