हिमाचल में मौसम ने फिर ली करवट ओेलावृष्टि ने किसानों व बागबानों को किया निराश,खुंब व फ्लोरिकल्चर को 200 करोड़ का नुकसान

हिमाचल प्रदेश में बारिश व ओेलावृष्टि ने किसानों व बागबानों की कमर तोड़ कर रख दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार हिमाचल में कुछ जिलों को छोेड़कर शेष में बारिश व ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। हिमाचल प्रदेश में ओलावृष्टि से बागबानी, खुंब व फ्लोरिकल्चर को 200 करोड़ का नुकसान आंका गया है। इसी के साथ हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला जिला में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।

शिमला जिला में अकेले बागबानी को 82.22 करोड़ का नुकसान हुआ है। इसी के साथ प्रदेश के जिला मंडी में भी 37.24 करोड़ और कुल्लू में 36.15 करोड़ से ज्यादा का नुकसान फलों को हुआ है। जिस से बागवानों को बेहद हानि हुई है।

प्रदेश में विंटर सीजन में बारिश, अंधड़ और ओलावृष्टि ने जमकर कहर बरपाया

हिमाचल प्रदेश में इस बार मौसम में करवट का क्रम जारी है। प्रदेश में विंटर सीजन के दौरान जहां जमकर बर्फबारी हुई थी। जानकारी के अनुसार वहीं इसके बाद भी बारिश व ओलावृष्टि होती रही। मार्च व अप्रैल माह के दौरान बारिश अंधड़ और ओलावृष्टि ने जमकर कहर बरपाया। इसी दौरान हिमाचल में बागबानी विभाग ने फलों को हुए नुक्सान की रिपोर्ट तैयार कर हिमाचल प्रदेश सरकार के माध्यम से केंद्र को भेज दी है। अब हिमाचल प्रदेश के बागबान नुकसान की भरपाई के लिए केंद्र सरकार पर नजरें लगाए बैठे हैं। हिमाचल प्रदेश के 10 जिलों में सबसे ज्यादा सेब की ही खेती हो रही है।

बागबानी विभाग के निदेशक एमएम शर्मा निदेशक ने दी जानकारी

इसी के साथ इसलिए नुकसान भी सबसे ज्यादा सेब को ही बताया जा रहा है। इसके अलावा आम, चेरी, प्लम, खुमानी, नाशपाती, आड़ू की फसल को भी ओलावृष्टि ने काफी नुकसान पहुंचाया है। प्रदेश भर में फैली महामारी के दौरान हुए नुकसान से किसान व बागबान चिंतित हैं। हिमाचल में बागबानी विभाग के निदेशक एमएम शर्मा निदेशक ने बताया कि बागबानी विभाग ने विभिन्न फलों व खुंब को ओलावृष्टि व तूफान के कारण हुए नुकसान का आकलन कर लिया है।

अब तक फलों को 200 करोड़ का नुकसान हो चुका है। राजधानी शिमला जिला में सेब को सबसे ज्यादा और अन्य जिला में आम, आड़ू, प्लम, बादाम, खुमानी को काफी नुकसान हुआ है। जिस बजह से प्रदेश में बहुत से बागवानों को हानि और निराशा हुई है।

In Himachal, the weather again caused havoc, disappointed farmers and orchards, loss of 200 crores to Khumba and Floriculture

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *