हिमाचल में दौड़ेंगी अब एचआरटीसी बसें, बस में बैठेंगे इतने यात्री, परिवहन विभाग को मिले आदेश

हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के बीच एचआरटीसी ने बसें चलाने की योजना बना ली है। प्रदेश सरकार के आदेश मिलने के बाद बसों का संचालन शुरू कर दिया जाएगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार कोरोना से बचाव को विशेष एहतियात बरतने की योजना बनाई गई है। हालांकि, बसें शुरू होने के बाद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना चुनौती हो सकता है। इसी के साथ मास्क लगाना भी अनिवार्य होगा साथ ही परिवहन विभाग द्वारा बनाये गए नियमो का भी पालन करना होगा।

50 फीसदी सवारियों के साथ बसों का संचालन के लिए (HRTC) तैयार

इसी के साथ 50 फीसदी सवारियों के साथ बसों का संचालन के लिए एचआरटीसी ने तीन के बेंच पर 2 सवारियां और दो के बेंच पर एक ही सवारी को बैठाने की योजना बनाई है। जानकारी के अनुसार तीन के बेंच में बीच वाली सीट और दो के बेंच पर किनारे वाली सीट पर क्रॉस के निशान वाले पोस्टर लगाए जाएंगे। बसों में सीट नंबर एक, दो और तीन पर यात्रियों के बैठने पर रोक रहेगी। ड्राइवर के केबिन की तर्ज पर सीट नंबर 1, 2, 3 को कवर करने की योजना है।

रुत पर जाने से पहले वर्कशॉप में किया जाएगा बसों को सैनिटाइज

जिस से इन पर किसी को नहीं बैटने दिया जाएगा। रूट पर जाने से पहले बसें वर्कशॉप में बसों को अच्छे से सैनिटाइज किया जाएगा। इसके बाद बस स्टैंड में पहुंचेगी। रूट से वापस लौटने पर 8 घंटे बाद फिर बसों को सैनिटाइज किया जाएगा। जिसके लिए सैनिटाइजेशन के लिए एचआरटीसी ने डिपो स्तर पर बैटरी से चलने वाली सैनिटाइजेशन मशीनें खरीदकर उपलब्ध करवा दी हैं। जिस के जरिये बसों को सैनिटाइज किया जाएगा।

बसों के साथ अड्डों को भी किया जाएगा सैनिटाइज

(HRTC) हर डिपो को दो-दो मशीनें उपलब्ध करवाएगी। साथ ही बसों का संचालन शुरू करने से पहले अड्डों को भी किया जाएगा। इसके लिए एचआरटीसी ने लिखित में सरकार को बसों के संचालन की घोषणा के बाद 3 दिन का समय देने का आग्रह किया है। इसी लिए एचआरटीसी के अधिकारियों का कहना है कि सरकार की ओर गाइडलाइंस जारी होने का इंतजार है।

साथ ही उन्होंने अपने स्तर पर सभी तैयारियां कर ली हैं। तथा वो अब हिमाचल की वादियों में बसे चलाने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इसी दौरान कंडक्टर द्वारा सवारियों के हाथो को भी सैनिटाइज करवाएगा जाएगा।

Now HRTC buses will run in Himachal, so many passengers will sit in the bus, order given to transport department

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *