12 वर्षीय अनाथ दीपक सिंह को गोद लेने के लिए पहुंचे कई दंपति पांवटा साहेब, जानिए पूरी जानकारी

हाल ही में हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर में मानवता को शर्मसार करने वाला मामला शामे आया थ। जिसमे पिता की मौत के बाद अनाथ हुए 12 वर्षीय दीपक सिंह को गोद लेने के लिए कई दंपति पांवटा पहुंच रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार इसमें गिरिपार का एक ऐसा दंपति भी शामिल है, जिसने जवान बेटे को एक हादसे में खो दिया था। इसी के साथ कुछ ऐसे परिवार और दंपति भी पहुंच रहे हैं। जो बच्चे की बेहतर ढंग से परवरिश करने में सक्षम हैं। इसी के साथ प्रशासन अभी इस मामले में कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहता है।

शनिवार को दीपक के पिता मान सिंह की हार्ट अटैक से मौत हुई

जानकारी के अनुसार तहसीलदार का कहना है कि सभी औपचारिकताओं के बाद ही बच्चे को गोद देने का कोई भी फैसला लिया जाएगा। इसी के साथ पिछले कई वर्षों से नेपाल के मूल निवासी मान सिंह (37) पांवटा के देवीनगर वार्ड-11 में अपने 12 वर्षीय बेटे के साथ रहते थे तथा शनिवार को मान सिंह की हार्ट अटैक से मौत हो गई। इसके बाद बच्चा अनाथ हो गया है। तथा जहा वो रहते थे वहा से उस के मकान मालिक ने भी उसे घर से निकाल दिया था।

अनाथ हुए दीपक सिंह को 12वीं तक मुफ्त शिक्षा

इसी के साथ पांवटा एसवीएम स्कूल की प्रधानाचार्य आरती पराशर ने दीपक की स्तिथि को देखते हुए स्कूल प्रबंधन कमेटी अध्यक्ष भोलेश्वर बंगवाल और प्रबंधक पवन वर्मा समेत समिति ने अनाथ हुए दीपक सिंह को 12वीं तक मुफ्त शिक्षा प्रदान करने का फैसला लिया है। तथा उस की पढ़ाई का करचा उठाएगी।

पांवटा के दंपति ने बच्चे को गोद लेने के लिए संपर्क किया

इसी के साथ तहसीलदार पांवटा कपिल तोमर ने कहा कि मंगलवार को एक गिरिपार और एक पांवटा के दंपति ने बच्चे को गोद लेने के लिए संपर्क किया है। साथ ही में गिरिपार से पहुंचे दंपति ने एक हादसे में नौजवान बेटा खो दिया था। जानकारी के अनुसार कानून ने सभी औपचारिकताओं के बाद ही बच्चे को गोद दिया जा सकेगा। तथा दीपक की अच्छे से परवरिश हो पाएगी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *