ऊना के टक्का गांव में कोरोना सैंपल लेने गए डॉक्टर तथा स्टाफ नर्स भयंकर गर्मी के कारण हुए बेहोश

हिमाचल प्रदेश के जिला ऊना मुख्यालय के साथ लगते टक्का गांव में कोरोना सैंपल लेने के दौरान एक डॉक्टर तथा स्टाफ नर्स के बेहोश हो जाने का मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार दरअसल ऊना में इन दिनों पड़ रही भारी गर्मी के बीच भी स्वास्थ्य विभाग के कोरोना योद्धा अपनी सेवाएं देने में जुटे हुए हैं।

इसी के साथ ऊना में लगातार कोरोना वायरस के सैंपल लिए जा रहे हैं और 40 से 42 डिग्री की भयंकर गर्मी के बीच सैंपल लेने गई टीम में शामिल एक डॉक्टर और एक स्टाफ नर्स गर्मी के कारण बेहोश हो गए।

कोरोना योद्धाओं के तौर पर रोजाना ही सैकड़ों लोगों के सैंपल लेने में जुटी यह टीम

जानकारी के अनुसार कोरोना योद्धाओं के तौर पर रोजाना ही सैकड़ों लोगों के सैंपल लेने में जुटी यह टीम पीपीई किट्स पहनकर लोगों के सैंपल ले रही थी लेकिन भयंकर गर्मी के बीच दोनों बेहोश हो गए। बताया जा रहा है की पूरी तरह से पैक होने की बजह से इन को गर्मी की बजह से कर आ गया।

इसके बाद दोनों को कुछ देर के लिए आराम करवाया गया और कुछ देर बाद ठीक होते ही दोनों दोबारा अपने काम में जुट गए। बताया जा रहा है कि गांव टक्का में एक मां और उसका बच्चा कुछ दिन पहले कोविड पॉजिटिव पाए गए थे। इस लिए इनके सम्पर्क में आये सभी लोगो की जांच की जा रही है।

40.6 डिग्री तापमान के बीच टीम पीपीई किट पहनकर सैंपल लेने में जुटी

बताया जा रहा है की दोपहर के समय यहां 40.6 डिग्री तापमान के बीच टीम पीपीई किट पहनकर सैंपल लेने में जुटी थी और इसी दौरान डॉक्टर व स्टाफ नर्स गर्मी सहन न कर पाने के चलते बेहोश हो गए। हालांकि इतना कुछ होने के बाद भी टीम ने जज्बा दिखाते हुए न केवल यहां कुल 56 सैंपल लिए, वहीं इसके बाद डठवाड़ा जाकर भी स07 लोगों के कोरोना सैंपल लिए। सीएमओ डॉ रमन कुमार शर्मा ने कहा कि गर्मी के बीच पीपीई किट के साथ काम करना बड़ी चुनौती है।

जिसकी वजह से स्वास्थ्य कर्मियों को परेशानी हो रही है, लेकिन सभी कर्मी फिर से काम में जुटे हुए है। प्रदेश में ऐसे ही बहुत से स्वास्थ्य कर्मी अपना इस जंग में बेहद योगदान दे रहे है। तथा जनता को इस वायरस से सुरक्षित कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *