इतिहास की इन दो गलतियों का मूल्य चुकाना पड़ा रहा भारत को, भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार,

हिमाचल प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने कहा है कि नेहरू के हिंदी चीनी भाई-भाई नारे के बाद 1962 का आक्रमण मिला। प्राप्त जानकरी के अनुसार इसके बाद अटल की बस में लाहौर यात्रा के बाद कारगिल युद्ध मिला और अब पीएम मोदी की चीन राष्ट्रपति से की गयी 04 मुलाकातों के बाद भारतीय सेना के 20 जवानों के शव मिले हैं। जानकारी के अनुसार शांता ने कहा कि 1947 से 1950 के बीच के तीन सालों में हुईं दो बड़ी गलतियां पता नहीं भारत को कितने सालों तक रुलाती रहेंगी। हाल ही में हुए भारत चीन विवाद में बोले शांता कुमार।

शहीद जवान अंकुश ठाकुर को देखकर आंखें बरसने लगती हैं, शांता कुमार,

इसी दौरान उन्होंने कहा की भारत का विभाजन होने के बाद पाकिस्तान ने कश्मीर पर आक्रमण कर के भारत का एक बड़ा भूभाग हथिया लिया। इस पहली बड़ी गलती भारत ने तब की, जब कश्मीर के मामले को राष्ट्र संघ में ले गए। जिसके बाद भारत को युद्ध विराम करना पड़ा और वह क्षेत्र आज तक पाकिस्तान के अधिकार में है। इसी के साथ पाक आतंकवाद लगातार जवानों का बलिदान ले रहा है। अब प्रदेश के जिला हमीरपुर के जवान अंकुश ठाकुर को देखकर आंखें बरसने लगती हैं। की कब तक यह सब चलता रहेगा।

तिब्बत को चीन का हिस्सा स्वीकार कर दूसरी बड़ी गलती की भारत ने

उन्हने कहा कि सब शहीदों को मेरी श्रद्धांजलि है। इसी दौरान उन्होंने कहा की 1950 में चीन ने तिब्बत पर आक्रमण किया तथा हजारों की हत्या की। इसी के साथ महामहिम दलाईलामा जी को भागकर भारत आना पड़ा। अमेरिका और ब्रिटेन जैसे बहुत से देश चाहते थे कि भारत तिब्बत प्रश्न को राष्ट्र संघ में उठाए। यह भी भारत की सहायता करना चाहते है। महामहिम दलाईलामा के प्रति विश्व भर में बड़ी श्रद्धा थी। लेकिन भारत ने राष्ट्र संघ में प्रश्न नहीं उठाया। इसी के साथ तिब्बत को चीन का हिस्सा स्वीकार कर दूसरी बड़ी गलती की गयी।

आजाद भारत की सरकार ने तिब्बत को चीन देश का हिस्सा स्वीकार कर लिया

इतना ही नहीं बल्कि 1904 में यंग मिशन के नाम से भारत की सेना तिब्बत गई। जिस के बाद भारतीय सेना आराम से ल्हासा तक पहुंच गई। लेकिन आजाद भारत की सरकार ने तिब्बत को चीन देश का हिस्सा स्वीकार कर लिया। जिस बजह से आज भारत को इतिहास की इन दो गलतियों का बहुत मूल्य चुकाना पड़ा है। जिस बजह से आज भारतीय सेना को हजारों बलिदान देने पड़ रहे है।

India had to pay the price of these two mistakes of history, senior BJP leader and former Chief Minister Shanta Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *