हिमाचल के विभिन्न हिस्सों में 283 सेब खरीद केंद्र खोलने और कुल 1.50 लाख मीट्रिक टन सेब खरीदने का लक्ष्य

हिमाचल प्रदेश में मंत्रिमंडल ने प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में 283 सेब खरीद केंद्र खोलने और कुल 1.50 लाख मीट्रिक टन सेब खरीदने का लक्ष्य रखा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सेब खरीद 20 जुलाई से 15 नवंबर तक की जाएगी। इसी के साथ बताया जा रहा है की सरकार ने सेब सीजन शुरू होने से पहले सी ग्रेड सेब का समर्थन मूल्य 50 पैसे बढ़ा दिया है।

इसी के साथ बागवानों को अब सेब का समर्थन मूल्य 8.50 रपये किलो मिलेगा।

सेब की खरीद 20 जुलाई से 15 नवंबर तक की जाएगी

हिमाचल प्रदेश में सेब की खरीद 20 जुलाई से 15 नवंबर तक की जाएगी। इसी के साथ हिमाचल में नीबू प्रजाति के फलों के समर्थन मूल्य में सरकार ने वृद्धि नहीं की है।

साथ ही आम का समर्थन 8.50 रुपये रखा गया है। पिछली बार आम का समर्थन मूल्य 7.50 रुपये था। इसी के साथ इस बार आम और अन्य फलों की खरीद 1 जुलाई से 31 अगस्त तक होगी।

अचारी आम का समर्थन मूल्य 8.50 रुपये किलो तय हुआ

प्राप्त जानकारी के अनुसार मंत्रिमंडल ने सिडलिंग, ग्राफ्टिड, अचारी आम का समर्थन मूल्य 8.50 रुपये किलो तय किया है। इसी के साथ यह पिछले साल 7.50 रुपये किलो था। साथ ही बी ग्रेड के किन्नू, माल्टा और संतरे का समर्थन मूल्य 7.50 और सी ग्रेड का समर्थन मूल्य 7 रुपये किलो तय किया है।

बताया जा रहा है की नींबू प्रजाति के फलों का समर्थन मूल्य नहीं बढ़ाया है। उन्होंने कहा की गलगल का समर्थन मूल्य 6 रुपये किलो रखा गया है।

साथ ही हिमाचल प्रदेश सब्जी एवं फल उत्पादक संघ के अध्यक्ष हरीश चौहान ने कहा कि कोरोना काल में सेब का समर्थन मूल्य कम से कम 15 रुपये किलो होना चाहिए था।

साथ ही उन्होंने कहा की ए और बी ग्रेड के सेब का समर्थन मूल्य भी घोषित किया जाना चाहिए था। इसी के साथ एंटी हेल नेट के बांस और स्थायी ढांचे पर 50 फीसदी उपदान देने उचित फैसला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *