हिमाचल के करसोग उपमंडल की ग्राम पंचायत सोरता के एक व्यक्ति ने बनाई हिमाचली सोलर इलेक्ट्रिक टोपी

हिमाचल प्रदेश देवभूमि की संस्कृति में हिमाचली टोपी का बहुत महत्व रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार हिमाचली टोपी शान का प्रतीक भी है।

लेकिन हिमाचल में हृदय रोग से ग्रस्त होने के कारण बीच में ही पढ़ाई को अलविदा करने वाले ओमप्रकाश ने हिमाचली टोपी की शान को और बढ़ाते हुए इसे नया रूप दे दिया। उन्होंने हाईटेक सोलर इलेक्ट्रिक टोपी

तैयार कर दी। इसी के साथ इस टोपी में गर्मी से राहत देने के लिए फंखे के साथ डिजिटल लाइट लगाई गई है। जिस से रात को भी चलना आसान हो पायेगा।

गर्मी से भी राहत देगी यह टोपी

ये हिमाचली टोपी लोगों द्वारा बेहद पसंद की जा रही है। देश और विदेश में प्रसिद्ध हिमाचली टोपी पहनना प्रदेश के लोगों की शान मानी जाती है। लेकिन गर्मियों में टोपी पहना बहुत ही दिक्कतों भरा रहता है। ऐसे में गर्मी पड़ने से टोपी को बार-

बार सिर से हटाना पड़ता है। इसी लिए ओमप्रकाश ने इस टोपी का निर्माण किया है। इस टोपी खास बात यह है की इसमें लाइट में लगाई गयी है साथ ही रात के समय टोपी एलईडी की कई तरह की लाइटों से भी जगमगाती है।

सोलर सिस्टम से चलता है इस टोपी का सारा सिस्टम

इस टोपी में लगाया गया यह सारा सिस्टम सोलर से चलता है। साथ ही ओमप्रकश ने इस टोपी में टोपी को ठंडा करने के लिए पंखा बह लगाया है। यह अद्भुत कलाकृति करसोग उपमंडल की ग्राम पंचायत सोरता के टिकर गांव के ओमप्रकाश ने

कर दिखाया है। दिल के रोग से ग्रसित ओमप्रकाश को 12वीं कक्षा की में ही पढ़ाई छोड़कर घर बैठना पड़ा था। उसके बाद भी उन्होंने इस टोपी को तैयार किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *