हॉट स्पॉट एरिया से हिमाचल आने वालोें की निगरानी में दिया जाए विशेष ध्यान, जयराम ठाकुर

हिमाचल प्रदेश में फैले कोरोना के चलते अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों पर खास ध्यान रखा जा रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रेड जोन से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की समुचित चिकित्सीय जांच की जाए, ताकि यह सुनिश्चित बनाया जा सके कि उनमें कोविड-19 का कोई लक्षण है या नहीं नहीं है। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं।

शिमला से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से दी जानकारी

इसी के साथ उन्होंने गुरुवार को शिमला से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपायुक्तों साथ ही पुलिस अधीक्षकों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। इसी के साथ सीएम ने कहा कि राज्य में आने वाले और राज्य से बाहर जाने वालों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए और हॉट-स्पॉट से आए लोगों की जांच पर विशेष ध्यान दिया जाए। तथा उन पर कड़ी निगरानी रखी जाए।

संक्रमण को रोकने के लिए एहतियाती उपायों जैसे मास्क का प्रयोग, शारीरिक दूरी बनाए रखे (CM)

जानकारी के अनुसार उन्होंने कहा कि हॉट-स्पॉट से आने वाले लोगों की कोरोना संक्रमण के लिए जांच अनिवार्य है तथा जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ही उनको होम क्वारंटाइन की अनुमति प्रदान की जाए। इसी के साथ हिमाचल में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए एहतियाती उपायों जैसे मास्क का प्रयोग, शारीरिक दूरी बनाए रखना और जुकाम जैसे लक्षण सामने आने पर चिकित्सीय सलाह लेना सुनिश्चित बनाने के लिए सूचना, शिक्षा और प्रसार पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

लोगों को सार्वजनिक स्थानों पर जाने से बचने तथा कार्यस्थलों पर आपस में उचित दूरी बनाए रखने के लिए जागरूक किया जाना चाहिए। ताकि प्रदेशवासियों को इस वायरस से सुरक्षित रखा जा सके।

सरकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों को सक्रियता दिखानी की जरूरत

इसी दौरान उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों को सक्रियता दिखानी चाहिए। तथा अन्य राज्यों से हिमाचल प्रवेश करने वालो पर कड़ी निगरानी रखनी होगी। ताकि घर पर ही क्वांरटाइन किए गए संक्र्रमित लोग वायरस को आगे न फैलाएं जा सके। इसी के साथ जयराम ठाकुर ने कहा कि सेब बहुल क्षेत्रों में श्रमिकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के प्रयास किए जाने चाहिए।

ताकि बागबानों को असुविधा का सामना न करना पड़े यदि के साथ मुख्य सचिव अनिल खाची ने उपायुक्तों को केन्द्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *