कांगड़ा और चंबा जिला के 10 भाजपा विधायकों ने सांसद किशन कपूर, पूर्व मंत्री रविंद्र रवि और अन्य कार्यकर्ताओ के खिलाफ कार्रवाई के लिए नड्डा को भेजा पत्र

हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा शहर के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में सांसद किशन कपूर समेत कुछ भाजपा नेताओं की गुप्त बैठक के बाद सियासी घमासान मच गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कांगड़ा और चंबा जिला के 10 भाजपा विधायकों और कुछ पदाधिकारियों ने राष्ट्र्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर सांसद किशन कपूर, पूर्व मंत्री रविंद्र रवि, पूर्व विधायक संजय चौधरी, नूरपुर जिला के महामंत्री रणबीर सिंह निक्का,

अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग

प्रदेश कार्यसमिति सदस्य घनश्याम शर्मा, बलदेव ठाकुर, निर्मल सिंह, डॉ नरेश बरमानी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग की है। इसमें 10 भाजपा विधायकों और कुछ पदाधिकारियों ने राष्ट्र्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र की सहायता की सहयता से यह से अवगत करवाया।

संयुक्त रूप से जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह मांग की

प्राप्त जानकारी के अनुसार संगठनात्मक जिला कांगड़ा के जिला अध्यक्ष चंद्रभूषण नाग, प्रदेश मीडिया प्रभारी राकेश शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता उमेश दत्त, विधायक राकेश पठानिया, रीता धीमान, पवन नैयर, जिया लाल, रविंदर धीमान व चंबा जिला के पूर्व अध्यक्ष डीएस ठाकुर, विक्रम जरियाल, अरुण मेहरा, विशाल नैहरिया, मुल्ख राज प्रेमी, अर्जुन सिंह, संगठनात्मक जिला कांगड़ा महामंत्री सचिन शर्मा, महामंत्री रमेश बराड़ ने संयुक्त रूप से जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह मांग की है।

भाजपा के विधायको ने अपने ही कार्यकर्ताओ को बताया बागी नेता

इसी के साथ भाजपा विधायकों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सभी कार्यकर्ता कोरोना महामारी से जनता को बचाने के लिए काम कर रहे हैं वहीं पार्टी के यह बागी नेता अपनी सरकार व संगठन को अस्थिर करने के लिए कांगड़ा के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में षड्यंत्र रचने में मस्त हैं। ऐसे में यह ज्ञात होता है की भाजपा सरकार आपस में ही राजनीती कर रही है।

पार्टी की विचारधारा से नहीं बल्कि स्वार्थ की भावना से जुड़े

इसी के साथ भाजपा नेताओं ने कहा कि सांसद किशन कपूर और पूर्व मंत्री रविंदर रवि को एक बार नहीं अनेकों बार पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया। इसी के साथ वह तीन-तीन बार प्रदेश मंत्रिमंडल में शामिल भी किए हैं। लेकिन, इसके बावजूद कोरोना महामारी के चलते इस संकट की घड़ी में पार्टी के विरुद्ध विद्रोह का बिगुल बजा कर उन्होंने यह प्रमाणित कर दिया है कि वो पार्टी की विचारधारा से नहीं बल्कि स्वार्थ की भावना से जुड़े थे। विधायकों के ऐसे जबाब में यह ज्ञात होता है की इस दौरान यह ज्ञात होता है की भाजपा के कार्यकर्ता आपस में ही लड़ रहे है।

मुद्दे पर अभी कोई भी कमेंट नहीं करेंगे, पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार

जानकारी के अनुसार विधायकों ने कहा कि कि इन बागी नेताओं ने किस-किस नेता को फोन द्वारा बैठक में आने के लिए दबाव डाला, उसकी भी सारी जानकारी नड्डा को भेज दी गई है। इसी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने कहा कि वह इस मुद्दे पर अभी कोई भी कमेंट नहीं करेंगे। इसी के साथ भाजपा विधायकों की ओर से जेपी नड्डा को लिखे पत्र पर सांसद किशन कपूर ने कहा कि लोगों और पार्टी के लोगों से मिलना अनुशासनहीनता नहीं बल्कि प्रेस नोट जारी करके इस किस्म की बयानबाजी करना अनुशासहीनता है। ऐसे में किशन कपूर ने कहा की कार्यकर्ता गलत समज बैठे है।

10 BJP MLAs from Kangra and Chamba district sent letters to Nadda for action against MP Kishan Kapoor, former minister Ravindra Ravi and other activists

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *