पांवटा साहिब के एक इलाके में मानवता को शर्मसार करने वाला मामला आया सामने, पिता की मौत के दूसरे ही दिन मकान मालिक ने खली करवा दिया कमरा

देश भर में फैले कोरोना संकट के दौर में प्रदेश में मानवता को शर्मसार करने वाला एक मामला सामने आया है, प्राप्त जानकारी के अनुसार यहां एक व्यक्ति की मृत्यु के दूसरे ही दिन मकान मालिक ने कमरा खाली करवा दिया। बताया जा रहा है की पिता की मौत से बेसहारा 12 साल के बच्चे को पड़ोसियों ने शरण दी है। इसी के साथ प्रशासन के पास भी यह मामला पहुंच गया है।

दूसरी तरफ प्रशासन ने पूरे मामले की जांच के बाद बच्चे की देखरेख के प्रबंध करने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। एक तरफ देश भर में सरकार कोरोना महामारी से जूझ रहा है। वही दूसरी तरफ कई लोग इस संकट की घड़ी में गरीब और लाचार लोगो पर अत्याचार कर रहे है।

नेपाल निवासी मान सिंह (37) पिछले कुछ वर्षों से पांवटा में एक स्वीट शॉप में काम करता था

जानकारी के अनुसार मूल रूप से यह नेपाल निवासी मान सिंह (37) पिछले कुछ वर्षों से पांवटा में एक स्वीट शॉप में काम करता था। जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि मान सिंह ने पंजाब के पटियाला में विवाह कर लिया था। इसी के साथ उनके बाद एक बेटा दीपक सिंह (12) है। 6 साल पहले महिला ने तलाक लेकर दूसरा विवाह कर लिया। जानकारी के अनुसार मान सिंह पहले होटल में काम करता था। फिर केटरिंग तो कभी कंपनी

प्रदेश में लगे लॉकडाउन में वह काफी परेशान था व्यक्ति

में काम कर देवीनगर वार्ड-11 में किराये का कमरा लेकर रह रहा था। इसी के साथ मेहनत कर वह बेटे की शिक्षा (कक्षा 7) एक निजी स्कूल में करवा रहा था। प्रदेश में फैले कोरोना महामारी की बजह से ढाई माह से कोरोना के चलते लॉकडाउन में वह काफी परेशान था। जिस बजह से उसे खाना पानी में और रोजगार की दक्कत हो रही थी।

समाजसेवी हेमंत शर्मा की टीम ने मृतक का अंतिम संस्कार करवाया

इसी के साथ शनिवार रात को खाना खाने के बाद मान सिंह व दीपक सिंह सो गए। इसी के साथ सुबह मान सिंह के नहीं उठने पर बच्चे ने पड़ोसियों को बताया। जानकारी के अनुसार हार्ट अटैक की आशंका होने पर मान सिंह को अस्पताल पहुंचाया। लेकिन अस्पताल में चिकित्सकों ने मान सिंह को मृत घोषित कर दिया। इसी दौरान समाजसेवी हेमंत शर्मा की टीम ने मृतक का अंतिम संस्कार करवा दिया है। साथ ही मासूम बच्चे का एकमात्र सहारा सदा के लिए अकेला छोड़ कर चला गया।

आसपास के लोगों ने बेसहारा बच्चे को खाने और रहने की व्यवस्था की

जानकारी के अनुसार आसपास के लोगों ने बेसहारा बच्चे को खाने की व्यवस्था कर दी। लेकिन, रविवार को उस वक्त अचानक मासूम की दिक्कतें बढ़ गईं, जब मकान मालिक ने कमरा खाली करवा दिया। इसी के साथ अनाथ बच्चे की सहायता करने वाले आसपास के पड़ोसी भी परेशान नजर आए।

प्रदेश सरकार व प्रशासन से अनाथ हुए मासूम दीपक को सहारा देने की मांग की

इसी दौरान देवीनगर निवासी जगदीप ठाकुर, सतीश कुमार व योगराज समेत पड़ोसियों ने अनाथ बच्चे की सहायता की तथा इस मुसीबत की घड़ी में एक पड़ोसी ने बच्चे को कुछ दिनों के लिए पनाह दे दी। दूसरे ने बच्चे को अपने कमरे में सामान रखने को हामी भरी। इसी के साथ देवीनगर के लोगों ने प्रदेश सरकार व प्रशासन से अनाथ हुए मासूम दीपक को सहारा देने की मांग की है।

तथा उस की सहायता करने की मदद मांगी है। तथा उस मकान मालिक पर भी करवाई की जाए जिस ने इस कोरोना वायरस के चलते इस बच्चे पर इतना बुरा व्यवहार किया है।

In one area of Paonta Sahib, a case of embarrassing humanity came to light, on the second day of the father’s death, the landlord set the room empty

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *