पीपीई किट की जगह रेन कोट सप्लाई करने के मामले में विजिलेंस ने शुरू की पुरे मामले की जांच

हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर में पीपीई किट की जगह रेन कोट सप्लाई करने के मामले में विजिलेंस ने जांच शुरू कर दी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सीएमओ बिलासपुर कार्यालय में तैनात कर्मचारियों को भी सहयोग करने के लिए कहा गया है। इसी के साथ सूत्रों का कहना है कि एसपी विजिलेंस ने मामले में विजिलेंस थाना बिलासपुर के प्रभारी डीएसपी चंद्रशेखर को जांच के आदेश दिए हैं। तथा जल्द ही इस पर करवाई की जायेगी।

डीएसपी ने सीएमओ ऑफिस से खरीद-फरोख्त से जुड़े दस्तावेज भी कब्जे में लिए

प्राप्त जानकारी के अनुसार डीएसपी ने सीएमओ ऑफिस से खरीद-फरोख्त से जुड़े दस्तावेज भी कब्जे में लिए हैं। इसी के साथ रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। साथ ही उन्होंने इस मामले को डील करने वाले सीएमओ दफ्तर के कर्मचारियों से जांच में सहयोग करने को कहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इनसे कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां मांगी गई हैं।

मेडिकल स्टाफ को संक्रमण से बचाने के लिए पीपीई किटें मुहैया करवाने का दावा किया गया था

डीएसपी चंद्रशेखर ने इसकी पुष्टि की है। इसी के साथ सीएमओ कार्यालय बिलासपुर की ओर से कोरोना महामारी की शुरुआत में डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ को संक्रमण से बचाने के लिए पीपीई किटें मुहैया करवाने का दावा किया गया था।

डॉक्टरों ने पीपीई किटों को रेन कोट बताकर इन्हें पहनने से इंकार कर दिया

प्रदेश के जिला ऊना की एक फर्म से पीपीई किट खरीदी गई थीं। इसकी सभी खंडों में सप्लाई कर दी गई। बताया जा रहा है की कुछ खंडों के डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ ने इनका प्रयोग भी शुरू कर दिया था। मारकंड ब्लॉक में डॉक्टरों ने पीपीई किटों को रेन कोट बताकर इन्हें पहनने से इंकार कर दिया था। इसके बाद सीएमओ कार्यालय ने आननफानन में ये रेन कोट वापस कर लिए।

एसपी धर्मशाला ने डीएसपी बिलासपुर को तुरंत जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा

इसी के साथ कथित तौर पर एक सरकारी गाड़ी से उसी फर्म से रेन कोट की जगह पर पीपीई किटें मंगाई गईं। बताया जा रहा है की इन्हें सभी खंडों को दे दिया तथा रेन कोट वापस मंगा लिए गए। इस मामले में विजिलेंस को मिली जानकारियों के आधार पर एसपी धर्मशाला ने डीएसपी बिलासपुर को तुरंत जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा है। साथ हीउ उन्होंने कहा की जल्द इस पर कार्रवाई की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *