सैनिटाइजर घोटाले की जांच कर रही विजिलेंस टीम ने 04 अधिकारियों और कर्मचारियों को एक प्रश्नावली भेजकर जानकारी देने के निर्देश किये जारी

हिमाचल प्रदेश में हुए सचिवालय में सैनिटाइजर घोटाले की जांच कर रही विजिलेंस ने खरीद की प्रक्रिया में शामिल रहे सचिवालय के 04 अधिकारियों और कर्मचारियों को एक प्रश्नावली भेजकर जानकारी देने की मांग की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार 15 बिंदुओं की इस

प्रश्नावली में सभी से उनके दायित्वों के अलावा खरीद की प्रक्रिया उनकी तैनाती का कार्यकाल साथ ही सप्लाई आर्डर में सैनिटाइजर खरीद का निर्णय करने वाले अधिकारी की जानकारी मांगी है। बताया जा रहा है की इसके अलावा खरीद कमेटी के सदस्यों, कोटेशन खोलने के लिए अधिकृत अधिकारी के साथ ही प्रशासनिक मंजूरी के अलावा कई अन्य बिंदु भी इस में शामिल हैं।

उप सचिव पुष्पलता सिंघा के अलावा सेक्शन अफसर कुसुम लता, सुपरिंटेंडेंट राजीव कुमार भी शामिल

परैत जानकरी के अनुसार जिन लोगों को यह प्रश्नावली भेजी गई है उनमें उप सचिव पुष्पलता सिंघा के अलावा सेक्शन अफसर कुसुम लता, सुपरिंटेंडेंट राजीव कुमार और क्लर्क सुखपाल भी शामिल हैं। इन सभी से अलग अलग तरह के सवाल पूछे गए हैं। जिन का उत्तर उन्हें जल्द देने के लिए कहा गया है।

सैनिटाइजर खरीदकर शिमला की फर्म ने सचिवालय में सप्लाई किया था

जानकारी के अनुसार ब्यूरो को अभी तक की जांच में कई तरह की लीड प्राप्त हुई है। जिनपर काम करने के बाद एक अफसर की ओर जांच की सुई घूम रही है। बताया जा रहा है की बद्दी की उस फर्म से पूरा ब्योरा विजिलेंस को मिल गया है। जिनसे सैनिटाइजर खरीदकर शिमला की फर्म

ने सचिवालय में सप्लाई किया था। जांच में इस अफसर की की गतिविधियों से जुड़ी सीसीटीवी फुटेज भी ब्यूरो ने अपने कब्जे में ले ली है। इसी के साथ सभी से एक एक कर पूछताछ भी की जा चुकी है।

उनके जवाब के आधार पर जांच अधिकारी आगे की जांच तय करेंगे

लेकिन अब उन सभी से लिखित में प्रश्नावली के आधार पर उनके जवाब मांगे गए हैं। सूत्रों के अनुसार यह जवाब उनके लिखित बयान के तौर पर भी इस्तेमाल होंगे, साथ ही उनके जवाब के आधार पर जांच अधिकारी आगे की जांच तय करेंगे। तथा इस मामले की गंभीरता से जांच की जायेगी।

Vigilance team investigating the sanitizer scam, issued a questionnaire to 04 officers and employees and issued instructions to give information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *