निजी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को मिली तोड़ी राहत, कोरोना संकट के बीच विद्यार्थियों से सिर्फ ट्यूशन फीस ही ले सकेंगे

हिमाचल प्रदेश के निजी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले लाखों विद्यार्थियों को कोरोना संकट के बीच बड़ी राहत मिल गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार वैश्विक महामारी के बीच बंद चल रहे निजी शिक्षण संस्थान इस अवधि के

दौरान विद्यार्थियों से अब सिर्फ ट्यूशन फीस ही ले सकेंगे। बताया जा रहा है की अधिक फीस वसूलने वाले संस्थानों के खिलाफ कार्रवाई भी अम्ल में लाइ जा सकती है। इसी के साथ ट्यूशन फीस भी वे ही

ऑनलाइन पढ़ाई करवाने वाले संस्थानों को भी रिकार्ड आयोग को देना होगा

संस्थान ले सकेंगे जो ऑनलाइन पढ़ाई करवा रहे हैं। ऐसा न करने वाले संस्थानों पर फीस वसूली करने की भी रोक लगाई गई है।

इसके अलावा ऑनलाइन पढ़ाई करवाने वाले संस्थानों को इसका रिकार्ड भी आयोग को देना होगा। जिसके बाद यह सिर्फ ट्यूशन फीस ही ले सकेंगे।

प्रदेश के राज्यपाल ने भी बीते दिनों निजी विश्वविद्यालयों को ट्यूशन फीस ही लेने की अपील की थी

हिमाचल प्रदेश सरकार ने बीते दिनों प्रदेश के निजी स्कूलों को कोरोना संकट के बीच सिर्फ ट्यूशन फीस ही वसूलने के आदेश दिए गए हैं। इसी के साथ प्रदेश के राज्यपाल ने भी बीते दिनों निजी विश्वविद्यालयों को ट्यूशन फीस ही लेने की

अपील की थी। बताया जा रहा है की इसी कड़ी में शुक्रवार को निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग ने सभी निजी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को पत्र जारी कर सिर्फ ट्यूशन फीस ही वसूलने के निर्देश दिए हैं।

सभी निजी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के प्रबंधन को निर्देश दिए

प्राप्त जानकारी के अनुसार आयोग ने विश्वविद्यालय से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए सभी निजी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के प्रबंधन को निर्देश दिए हैं।

इसी के साथ उन्होंने विद्यार्थियों से वसूली जाने वाली ट्यूशन फीस को शिक्षकों को वेतन देने पर खर्च करना अनिवार्य है। जानकारी के अनुसार इसके बाद अगर राशि शेष बचती है तो

प्रबंधन अन्य खर्च पूरे कर सकता है। इसी के साथ शिक्षकों को वेतन नहीं मिलने की समस्याएं सामने आने के बाद आयोग ने यह फैसला सुनाया है। जिस से निजी स्कूलों को थोड़ी राहत मिली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *