धर्मशाला के निकट पंचायत सराह के व्यक्ति के साथ हुई लाखो की ठगी, राज्यसभा का टिकट दिलाने के नाम पर 13 लाख का चुना

हिमाचल प्रदेश के जिला काँगड़ा में एक अनोखा ढगी का मामला सामने आया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश में राज्यसभा का टिकट दिलाने के नाम पर एक व्यक्ति से साढ़े 13 लाख रुपये की ठगी हुई है।

बताया जा रहा है की शातिरों ने ठगी के शिकार व्यक्ति को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अच्छे संबंध होने का हवाला दिया इसी

इसी के साथ व्यक्ति उनके बहकावे में आ गया और शातिरों को लाखों रुपये दे बैठा। प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय धर्मशाला के साथ लगती

ग्राम पंचायत सराह के विकास ने पुलिस थाना धर्मशाला में मामला दर्ज करवाया है। तथा पुलिस ने मामला दर्ज कर आगमी करवाई शुरू कर दी है|

यूपी के 02 लोगों ने यूपी से राज्यसभा का टिकट दिलाने के नाम पर उससे 13.35 लाख रुपये की ठगी की

जानकारी के अनुसार दर्ज शिकायत में विकास ने ओडिशा व यूपी के 02 लोगों ने यूपी से राज्यसभा का टिकट दिलाने के नाम पर उससे 13.35 लाख रुपये की ठगी की जानकारी दी है।

इसी के साथ बताया गया की विकास ने ओडिशा निवासी नीलेश और यूपी निवासी सिद्धार्थ ने उससे यह ठगी की है।

उसने बताया कि नीलेश उसका जानने वाला था और उसके घर पर एक माह रह कर भी गया था। इसी के साथ बताया जा रहा है की इस दौरान उसने अपने

दूसरे साथी यूपी निवासी सिद्धार्थ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच अच्छे संबंध होने का हवाला दिया।

धर्मशाला सदर थाना प्रभारी राजेश कुमार ने मामले को दर्ज कर के आगमी करवाई शुरू कर दी है

प्राप्त जानकारी के अनुसार इन्हीं संबंधों के आधार पर उत्तर प्रदेश में राज्यसभा का टिकट दिलाने की बात कही। सराह के स व्यक्ति टिकट दिलाने के नाम पर उससे 13.35 लाख रुपये की मांग की,

जिसे उसने यूपी निवासी सिद्धार्थ सिंह के खाते में डाल दिया। बताया जा रहा है की उसे राज्यसभा का टिकट मिलना तो दूर अब अपने पैसों से हाथ धोना पड़ा।

मामले की पुष्टि करते हुए सदर थाना प्रभारी राजेश कुमार ने बताया कि पीड़ित की शिकायत के आधार पर ओडिशा निवासी नीलेश और यूपी निवासी सिद्धार्थ

के खिलाफ ठगी का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। तथा पुरे मामले की जांच की जा रही है|

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *