क्या है हैजा, इसके कारण, लक्षण और बचाव के उपाय

हैजा एक ऐसा रोग हैं जिसमे दस्त, प्यास लगना और उलटी जैसी परेशानियो का सामना करना पड़ता हैं। जिसकी वजह से शरीर में मिनरल्स और विटामिन जैसे तत्वों में कमी आ जाती हैं। हैजा बेक्टेरियल इन्फेक्शन के कारण होता हैं, जिसे विब्रियो कोलेरी संक्रमण (Vibrio cholerae infection) कहते हैं।
वैसे तो यह बैक्टीरिया पानी में होता हैं। पानी के माध्यम से शरीर में पहुंचने के बाद यह एन्टरोटॉक्सिन (Enterotoxin) बनता है जिसकी वजह से हमे दस्त शुरू हो जाते हैं।

हैजा को कॉलरा (Cholera) भी कहा जाता हैं, इसका मुख्य कारण दूषित खाना और और पानी होती हैं।

हैजा के घरेलू उपाए

आज हम आपको बताएंगे की कैसे आप घरेलू तरीको से हैजा की समस्या को घर घर में बैठे बैठे ठीक कर सकते हैं। आईये जानते है हैजा को दूर करने के घरेलू तरीके।

अदरक

अदरक में एन्टीबैक्टेरिअल (Antibacterial) गुण पाए जाते हैं जो हैज़ा जैसी बीमारी को दूर करने में फायदेमंद हैं। इसके लिए आपको अदरक को काट उसका पेस्ट बनाना हैं और उसमे स्वाद अनुसार शहद मिलाना हैं। जिसे से की खाते वक़्त अदरक का कड़वापन न लागे। अच्छे से मिलाने के बाद आपको इस पेस्ट का सेवन दिन में दो से तीन बार करना हैं।

cholera-home-remedies
cholera-home-remedies

हल्दी

अदरक की तरह हल्दी में भी एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) गुण मोजूद होते हैं जो हैजा से हमारा बचाव करते हैं। आपको 1 गिलास गर्म पानी में हल्दी और शहद को को मिला कर दिन में 2 बार उसका सेवन करना हैं।

निम्बू

निम्बू में एंटीबायोटिक (एंटीबायोटिक ) और विटामिन (Vitamin) मौजूद होते हैं जो हमारी इम्युनिटी सिस्टम (Immunity System) को बैक्टीरिया से बचाता हैं और उससे मजबूत  बनाता हैं। आपको करना यह हैं की आपको 1 गिलास में निम्बू निचोड़ना है और उसमे नमक और शहद को मिलाना हैं। उसको घोलने के बाद आपको उसका नियामत रूप से सेवन करना हैं।

पुदीना

पुदीने में में कई तरह के तत्व मौजूद होते हैं जो बैक्टीरिया को रोकने क काम करते हैं। इसके लिए आपको पुदीने को पीस कर उसका रस निकाल लें। उस रस को पानी में मिलाकर रोज़ पिए।

प्याज

प्याज में एंटीसेप्टिक (Antiseptic), एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) और एंटीबायोटिक (Antibiotic) जैसे गुण मौजूद होते हैं। जो हमारे शरीर को बहुत से बैक्टीरिया से बचाते हैं। आपको दो चम्मच प्याज के रस में करेले का रास और निम्बू का रस मिलाना हैं और इसके सेवन दिन में दो से तीन बार करना हैं।

मेथी के दाने

मेथी के दानो में एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) गुण होते हैं जो बाकियों की तरह की बैक्टीरिया से बचाता हैं। आपको मेथी के दानो के साथ जीरा के दानो को अच्छे से भून ना हैं। अच्छे से भुनने के बाद उसके थोड़ा सा दही मिला दे और अच्छी तरह से उसको मिला लें। आपको इसके सेवन दिन में तीन बार करना हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *