फर्जी प्रमाण पत्र बनाकर करता रहा डाक सेवक के रूप में कार्य, जांच के दौरान हुआ मामले का खुलासा

हिमाचल प्रदेश के विधानसभा क्षेत्र हरोली के दुलैहड़ डाकघर में एक बड़ा मामला सामने आया है, प्राप्त जानकारी के अनुसार हरोली में तैनात डाक सेवक के प्रमाण पत्र विभागीय जांच में फर्जी पाए जाने पर डाक सेवक को बर्खास्त कर दिया गया है।

इसी के साथ बताया जा रहा है कि इस युवक ने दसवीं कक्षा के फर्जी प्रमाण पत्र के आधार डाक विभाग में डाक सेवक की नौकरी हासिल की थी।

फर्जी प्रमाण पत्र के आधार डाक विभाग में डाक सेवक की नौकरी हासिल की थी

जानकारी के मुताबिक डाक विभाग में मेरिट के आधार पर डाक सेवक की नौकरी पाने के लिए आरोपी ने दसवीं कक्षा का फर्जी प्रमाण पत्र बनाकर ही विभाग की फाइल में लगा दिया था। लेकिन नौकरी मिलने के कुछ समय बाद डाक विभाग की ओर से की गई जांच में आरोपी युवक के दसवीं कक्षा का प्रमाण पत्र सही नहीं पाया गया है।

प्रमाण पत्र संबंधित शिक्षा बोर्ड की ओर जारी नहीं किया गया था

जिस बजह से व्यक्ति को बर्खास्त कर दिया गया है। इसी के साथ जांच के दौरान विभाग ने संबंधित बोर्ड से सत्यापित किया तो विभागीय जांच में पाया गया कि उक्त प्रमाण पत्र संबंधित शिक्षा बोर्ड की ओर जारी नहीं किया गया था।

डाक अधीक्षक राम तीर्थ शर्मा ने दी जानकारी

प्राप्त जानकारी के अनुसार डाक अधीक्षक राम तीर्थ शर्मा ने बताया कि डाक घर दुलैहड़ में कार्यरत डाक सेवक का दसवीं कक्षा का प्रमाण पत्र विभाग की जांच में फर्जी पाया गया है। इसी के साथ बताया जा रहा है की डाक सेवकों का चयन ऑनलाइन दसवीं कक्षा की मेरिट के आधार पर किया जाता है।

लैहड़ स्थित डाकघर में कुछ समय पहले डाक सेवक के पद पर तैनात किया गया था इस व्यक्ति को

इसी के साथ डाक सेवक की तैनाती होने के बाद ही उनके दस्तावेजों की जांच की जाती है। राजस्थान निवासी नंद किशोर नाम के युवक को दसवीं कक्षा की मेरिट के आधार दुलैहड़ स्थित डाकघर में कुछ समय पहले डाक सेवक के पद पर तैनात किया गया था।

तत्काल प्रभाव से डाक सेवक के पद से बर्खास्त कर दिया गया

इसी के साथ यह मामला संज्ञान में आने के बाद उक्त डाक सेवक को तत्काल प्रभाव से डाक सेवक के पद से बर्खास्त कर दिया गया है। साथ ही विभाग की ओर से युवक के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा रही है साथ ही व्यक्ति को बरखास्त किया गया है।

Worked as postal servant by creating fake certificate, case disclosed during investigation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *