नेरवा अस्पताल मरीजों के साथ-साथ चिकित्सकों के लिए भी सिर दर्द बना, अस्पताल की हालत बेहद खस्ता

हिमाचल प्रदेश में नेरवा क्षेत्र की दो दर्जन पंचायतों के लोगों की सेहत जांचने वाला नेरवा अस्पताल मरीजों के साथ-साथ चिकित्सकों के लिए भी सिर दर्द बना हुआ है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस अस्पताल की हालत बहुत ही ज्यादा खराब

बताई जा रही है। इस अस्पताल में एक छोटा सा एक मात्र ओपीडी रूम है। जिसमें बैठ कर एक समय में 02 डाक्टर मरीजों की जांच करते हैं।

बताया जा रहा है की अस्पताल में रोजाना डेढ़ सौ से अधिक मरीज चेकअप के लिए आते हैं।

इसी के साथ यहां इलाज के लिए आये मरीजों के बैठने के लिए पर्याप्त स्थान ना होने के कारण अस्पताल में दिन भर मरीजों का जमावड़ा लगा रहता है।

अव्यवस्था के कारण कई बार डाक्टरों को मरीजों के गुस्से का शिकार होना पड़ता

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ इस अस्पताल में भीड़ अधिक होने पर मरीजों को अस्पताल के बाहर खुले आसमान के नीचे बैठ कर अपनी बारी का इंतज़ार करना पड़ता है। साथ ही अस्पताल में इस बेकार अव्यवस्था के कारण कई बार डाक्टरों को

मरीजों के गुस्से का शिकार होना पड़ता है। बताया जा रहा है की नए अस्पताल भवन का निर्माण कार्य 2016 से चला हुआ है।

04 साल का लंबा समय बीत जाने के बावजूद यह कार्य पूरा नहीं हो पाया

परन्तु 04 साल का लंबा समय बीत जाने के बावजूद यह कार्य पूरा नहीं हो पाया है। अब तो लोग इस अस्पताल की हालत को देख कर सरकार से यह सवाल करने लगे हैं कि हिमाचल प्रदेश सरकार यह तो बता दो कि यह

अस्पताल बन रहा है या फिर कोई ताज महल जो इस में इतना समय लग रहा है। कई साल हो गए अभी तक इस कार्य पूरा नहीं हो पाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *