बंदरों से प्रभावित क्षेत्रो में बंदरों को पकड़ने पर प्रति बंदर 700 रुपए की राशि प्रदान की जाएगी सरकार द्वारा

हिमाचल प्रदेश में बंदरों से प्रभावित प्रदेश के जिलों में बंदरों को पकड़ने का कार्य अब आमजन करेंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इसके लिए वन विभाग ने बीट गार्डों के माध्यम से लोगों को खासकर बेरोजगारों को प्रेरित एवं प्रोत्साहित करने के लिए संपर्क साधना शुरू किया है।

कोविड-19 की वजह से उत्पन्न परिस्थितियों को मद्देनजर रखते हुए वन विभाग ने यह अहम निर्णय लिया

बताया जा रहा है की कोविड-19 की वजह से उत्पन्न परिस्थितियों को मद्देनजर रखते हुए वन विभाग ने यह अहम निर्णय इस मामले को लेकर लिया है।

इसी के साथ बताया जा रहा है की क्योंकि अभी तक बंदरों को पकड़कर नसबंदी केंद्रों तक पहुंचाने का कार्य दिल्ली व मथुरा के प्रोफेशनल्स के माध्यम से करवाया जाता रहा है।

2019 की गणना में आंकड़ा 1,36,443 तक रह गया

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इस बार यह कार्य ग्रामीणों से करवाया जाएगा और उन्हें घरद्वार ही रोजगार मिलेगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार लोगों को प्रति बंदर 700 रुपए की राशि प्रदान की जाएगी।

इसी के साथ जानकारी के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में 2015 की गणना के तहत 2,05,167 बंदर पाए गए थे और 2019 की गणना में यह आंकड़ा 1,36,443 तक रह गया है।

बंदरों का आंकड़ा प्रदेश में घटकर 69,324 रह गया

बताया जा रहा है की नसबंदी के बाद बंदरों का आंकड़ा प्रदेश में घटकर 69,324 रह गया है। बताया जा रहा है की 70 हजार के करीब बंदर कम हुए हैं। इसका तात्पर्य यह है कि वन विभाग की बंदरों की नसबंदी करवाने की योजना कारगर साबित हो रही है।

An amount of 700 rupees per monkey will be provided for catching monkeys in the areas affected by monkeys

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *