हिमाचल के चार जिले नशे की चपेट में, नशा मुक्ति विभाग करेंगा युवाओ को नशे से होने वाली हानियों से अवगत

हिमाचल प्रदेश के कुल 12 में से 04 जिले शिमला, कुल्लू, चंबा और मंडी नशे की चपेट में हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार से जारी हुई नशा मुक्त भारत की वार्षिक एक्शन प्लान की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। इसी के साथ बताया जा रहा है।

हिमाचल प्रदेश के इन जिलों में अब नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, स्वास्थ्य विभाग और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की ओर से संयुक्त तौर पर नशा मुक्ति का अभियान चलाया जाएगा जिस से प्रदेश के युवाओ को नशा मुक्त करने के लिए यह पहल चलाई जा रही है। हिमाचल में बढ़ता नशा के अहम मुदा बनते जा रहा है। जो हिमाचल प्रदेश में एक चिंता का विषय है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री का गृह जिला मंडी भी इसकी चपेट में

प्राप्त जानकारी के अनुसार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री का गृह जिला मंडी भी इसकी चपेट में आ गया है। हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्लू पहले से ही नशे के गढ़ के तौर पर देश-विदेश में विख्यात है। तथा नशे के लिए देश भर में जाना जाता है। इसी के साथ हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला और चंबा जिले में भी मामले बढ़ना चिंता की बात है।

देश के 272 जिलों की सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने सूची जारी

इसी के साथ नशे की चपेट में आने वाले देश के 272 जिलों की सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने सूची जारी की है। इसी के साथ बताया जा रहा है की केंद्र सरकार ने बीते दिनों अंतरराष्ट्रीय नशा विरोधी दिवस पर उक्त 272 जिलों में नशा मुक्ति के लिए 260 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया है। जिस से प्रदेश के विभिन्न जिलों में नशा मुक्ति योजनाए चलाई जायेगी।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जागरूकता अभियान चलाएगा

इसी के साथ नशा प्रभावित जिलों में तीन विभाग नशा मुक्ति पर काम करेंगे। इसी के साथ बताया जा रहा है की नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो नशा रोकने की कार्रवाई करेगा। साथ ही सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जागरूकता अभियान चलाएगा। साथ ही यह स्वास्थ्य विभाग नशा पीड़ितों का इलाज भी करेगा।

वहीं उच्च शैक्षणिक संस्थानों, विश्वविद्यालय परिसरों और विद्यालयों में जागरूकता अभियान चलाकर नशीले पदार्थों के दुष्प्रभावों की जानकारी दी जाएगी तथा उन से होने वाली हानियों के बारे में जागरूकता दी जायएगी।

 

Four districts of Himachal in the grip of intoxication, drug de-addiction department will make youth aware of losses due to intoxication

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *