हिमाचल में साहसिक पर्यटन गतिविधि पैराग्लाइडिंग पर लगी रोक 02 माह बाद बुधवार से हट रही, पर्टयकों की संख्या में होगी बढ़ोतरी

हिमाचल प्रदेश में पर्टयकों का सेलाव उभड़ने लगा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अब हिमाचल प्रदेश में साहसिक पर्यटन गतिविधि पैराग्लाइडिंग पर लगी रोक दो माह बाद बुधवार से हट रही है। बताया जा रहा है की अब कांगड़ा के बीड़-बिलिंग, मनाली के सोलंगनाला, चंबा

के खज्जियार और काँगड़ा के धर्मशाला समेत हिमाचल प्रदेश के अन्य जिलों के पर्यटन क्षेत्रों में पैराग्लाइडिंग हो सकेगी। जिस से हिमाचल में पर्टयकों की भीड़ फिर से लगने शुरू हो जायेगी। हिमाचल में पर्यटन विभाग ने बरसात के चलते 02 महीने तक पैराग्लाडिंग पर रोक लगाई थी।

हिमाचल में साहसिक खेल शुरू होने से पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा

इसी के साथ हिमाचल में कोरोना काल में साहसिक खेल शुरू होने से पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही हिमाचल प्रदेश के होटल पर्यटकों के लिए खोलने के बाद सैलानियों ने हिमाचल प्रदेश के पर्यटन स्थलों का रुख करना शुरू कर दिया है।

इसी के साथ पर्यटन नगरी खज्जियार में करीब 80 पैराग्लाडर पायलटों के पास लाइसेंस हैं। जिन को भी अब राहत मिलेगी।

साहसिक गतिविधियां शुरू होने से आने वाले दिनों में सैलानी पर्यटक स्थल खज्जियार का रुख करेंगे

हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के चलते मार्च से पर्यटन स्थल खज्जियार में पर्यटकों सहित जिले के लोगों की आमद कम हुई है। इसी के साथ इसके बाद पर्यटन विभाग ने साहसिक खेल पैराग्लाइडिंग पर रोक लगा दी थी।

साथ ही प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की पैराग्लाइडरों को उम्मीद है कि साहसिक गतिविधियां शुरू होने से आने वाले दिनों में सैलानी पर्यटक स्थल खज्जियार का रुख करेंगे।

खज्जियार के दडोता से लाहड़ा और लाहड़ा से द्रोल दो उड़ान स्थल चिह्नित किए है

इसी के साथ दो महीने बाद बुधवार से खज्जियार में पैराग्लाडिंग शुरू हो जायेगी। उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग ने खज्जियार के दडोता से लाहड़ा और लाहड़ा से द्रोल दो उड़ान स्थल चिह्नित किए हैं। साथ ही धर्मशाला में भी पैराग्लाइडिंग जल्द शुरू हो जायेगी। जिस से धर्मशाला में पर्टयकों की संख्या में बढ़ोतरी होगी।

Paragliding ban on adventure tourism activity in Himachal is removed after 2 months from Wednesday, number of tourists will increase

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *