हिमाचल प्रदेश में 21 सितंबर से खुलने जा रहे स्कूलों में शिक्षक अब कक्षाओं की जगह खुले में बैठकर भी छात्रों को पढ़ा सकेंगे

हिमाचल प्रदेश में 21 सितंबर से खुलने जा रहे स्कूलों में शिक्षक अब कक्षाओं की जगह खुले में बैठकर भी छात्रों को पढ़ा सकेंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की मौसम अनुकूल रहने पर इसकी मंजूरी दी गई है। इसी के साथ बताया जा रहा है की अब शिक्षकों और विद्यार्थियों के बीच 06 फीट की शारीरिक दूरी रखना अनिवार्य किया गया है।

शुक्रवार शाम को मंत्रिमंडल के फैसले के बाद शिक्षा विभाग ने इस बाबत एसओपी जारी कर दी

इसी के साथ बताया जा रहा है की शुक्रवार शाम को मंत्रिमंडल के फैसले के बाद शिक्षा विभाग ने इस बाबत एसओपी जारी कर दी है। साथ ही सभी के लिए मास्क पहनना अनिवार्य किया गया है। ताकि सभी छात्रों को इस महामारी से बचाया जा सके।

शिक्षण संस्थानों में सैनिटाइजर और साबुन की पर्याप्त व्यवस्था करनी होगी

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की एसओपी के मुताबिक स्कूलों के प्रवेश द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही प्रवेश दिया जाएगा। साथ ही शिक्षण संस्थानों में सैनिटाइजर और साबुन की पर्याप्त व्यवस्था करनी होगी।

शनिवार और रविवार को स्कूलों में विशेष सफाई अभियान चलाया जाएगा

इसके इलावा बायोमीट्रिक पर शिक्षकों और गैर शिक्षकों की हाजिरी नहीं लगाई जाएगी। साथ ही कंटेनमेंट जोन में स्कूलों को बंद रखा जाएगा। और इसी के साथ शनिवार और रविवार को स्कूलों में विशेष सफाई अभियान चलाया जाएगा।

पचास फीसदी शिक्षकों को स्कूलों में बुलाने को लेकर रोस्टर भी शनिवार को ही तैयार करने को कहा गया

बताया जा रहा है की संस्थागत क्वारंटीन केंद्र बनाए गए स्कूलों में सैनिटाइजेशन करना होगा। इसी के साथ पचास फीसदी शिक्षकों को स्कूलों में बुलाने को लेकर रोस्टर भी शनिवार को ही तैयार करने को कहा गया है

ताकि सोमवार से स्कूल आने वाले शिक्षकों को इसकी पूरी जानकारी रहे। साथ ही एसओपी में स्पष्ट किया गया है कि छात्र-छात्रों को स्वेच्छा से स्कूल आने की आजादी होगी।

बच्चे अपने माता-पिता की लिखित अनुमति लेकर ही स्कूल पढ़ाई करने आएंगे

इसी के साथ किसी भी छात्र पर स्कूल आने के लिए दबाव नहीं बनाया जाएगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की बच्चे अपने माता-पिता की लिखित अनुमति लेकर ही स्कूल पढ़ाई करने आएंगे। इसी के साथ

स्कूलों में आने के इच्छुक विद्यार्थियों को अलग-अलग समय दिया जाएगा साथ ही छात्रों के इकट्ठा होने यानी असेंबली और खेलकूद से जुड़ी गतिविधियों की मनाही होगी।

बीमार महसूस करने पर तुरंत संबंधित अधिकारी को सूचित करना होगा

बताया जा रहा है की किसी भी तरह बीमार महसूस करने पर तुरंत संबंधित अधिकारी को सूचित करना होगा। साथ ही कैंपस में कहीं भी थूकना पूरी तरह वर्जित होगा ताकि सभी छात्रों को इस कोरोना से सुरक्षित रखा जा सके।

Teachers in schools that will open from September 21 in Himachal Pradesh will now sit in the open instead of classrooms and teach students.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *