हिमाचल में पॉज़िटिव को नेगेटिव और नेगेटिव को पॉज़िटिव बताने पर हुआ हंगामा

हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस वायरस को लेकर बड़ा मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य विभाग की बड़ी कोताही सामने आई है। बताया जा रहा है की स्वास्थ्य विभाग द्वारा पॉज़िटिव को नेगेटिव और नेगेटिव को पॉज़िटिव बता दिया गया।

एक ही उम्र के 03 लोगों के सैंपल एक साथ जांच के लिए भेजे जाने के चलते इस तरह की कोताही सामने आई

इसी के साथ एक ही नाम और एक ही उम्र के 03 लोगों के सैंपल एक साथ जांच के लिए भेजे जाने के चलते इस तरह की कोताही सामने आई है। लेकिन फिर भी इस तरह की कोताही कई लोगों पर भारी पड़ सकती है।

सैंपल IGMC शिमला जांच के लिए भेजे

इसी के साथ जानकारी के अनुसार स्वास्थ्य विभाग की ओर से लोगों के सैंपल IGMC शिमला जांच के लिए भेजे गए थे। इसी के साथ शाम के समय जब रिपोर्ट आई, तो 35 वर्षीय व्यक्ति को कोरोना वायरस से संक्रमित बताया गया।

सरकार व प्रशासन द्वारा बनाए गए नियमों का पालन कर रहा था व्यक्ति

हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर शहर के औद्योगिक क्षेत्र बिहार राज्य से पहुंचा हुआ था इसी के साथ यह व्यक्ति होम क्वारंटाइन भी था। साथ ही सरकार व प्रशासन द्वारा बनाए गए नियमों का पालन कर रहा था। लेकिन इस व्यक्ति की रिपोर्ट असल में नेगेटिव थी। जो व्यक्ति पॉजिटिव था, वह कोई अन्य व्यक्ति था, जो कि घुमारवीं क्षेत्र से संबंधित था।

नेटिव व्यक्ति को कोरोना संक्रमित बताया गया

एक ओर जहां स्वास्थ्य विभाग की कोताही का खामियाजा कई लोगों को भुगतना पड़ा है। जिन व्यक्ति को कोरोना संक्रमित बताया गया उन्हें भी बहुत से परेशानियों का सामना करना पड़ा है। इसी के साथ स्वास्थ्य विभाग की इस गलती के कारण पॉज़िटिव बताए गए व्यक्ति को भी भुगतना पड़ा है।

विभाग में कन्फूयजन होने के चलते होल्ड पर रखा गया

हिमाचल प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग की मानें, तो जो व्यक्ति कोरोना पॉज़िटिव था। उस व्यक्ति को कोविड-19 केयर सेंटर शिफ्ट नहीं किया गया था। जानकारी के अनुसार विभाग में कन्फूयजन होने के चलते होल्ड पर रखा गया था। अधिकतर तौर पर किसी व्यक्ति की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद व्यक्ति अपने परिवार के अलावा सामाजिक तौर

पर लोगों से मेलजोल शुरू कर देता है। लेकिन रिपोर्ट में इस तरह की कोताही सामने आना लोगों में चर्चा बना हुआ है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि जो व्यक्ति पॉज़िटिव है, उस व्यक्ति को ट्रेसआउट कर लिया गया है।

बिलासपुर शहर के औद्योगिक क्षेत्र से संबंधित कोई मामला पॉज़िटिव नहीं

इसी के साथ सीएमओ डा. प्रकाश दरोच का कहना है कि हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर शहर के औद्योगिक क्षेत्र से संबंधित कोई मामला पॉज़िटिव नहीं है। साथ ही बताया जा रहा है किसी अन्य व्यक्ति की रिपोर्ट पॉज़िटिव थी, जिसे ट्रेस

आउट कर लिया गया है। सर्विलेंस ऑफिसर प्रविंद्र सिंह ने कहा कि रिपोर्ट को लेकर कन्फ्यूजन होने के चलते स्थिति स्पष्ट हुई है। साथ ही इस मामले की जांच की जा रही है।

Uproar in Himachal calling positive positive and negative positive

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *