आईजीएमसी शिमला में नेगेटिव मरीज को कोरोना पॉजिटिव कर मशोबरा शिफ्ट कर दिया गया

corona virus negitive

हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी शिमला की एक बड़ी लापरवाही सामने आने से पुरे अस्पताल और लोगो में हड़कंप मच गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की यहां पर एक नेगेटिव मरीज को पॉजिटिव बता कर उसे मशोबरा शिफ्ट कर दिया गया है।

उसे 02 दिन तक कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के साथ भी रखा गया

इसी के साथ बताया जा रहा है की यहां पर उसे 02 दिन तक कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों के साथ भी रखा गया था। लेकिन जब बाद में युवक ने अपनी रिपोर्ट की जांच करवाई तो उसे मालूम हुआ कि वह नेगेटिव है, तथा उसे किसी भी प्रकार की कोई बीमारी नहीं है। साथ ही वो कोरोना संक्रमित भी नहीं है।

व्यक्ति ने हिमाचल प्रदेश आने से पहले भी कोविड का टेस्ट करवाया था

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की सोमवार को भी उसका रैपिड टेस्ट हुआ था, तो जांच के दौरान उस की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। प्राप्त जानकारी के अनुसार IGMC शिमला के जेनेरिक मेडिसिन स्टोर में काम करने वाले हेमंत का कहना है।

इसी के साथ बताया जा रहा है कि वह अपनी बहन को छोड़ने के लिए कश्मीर गया हुआ था। उसने कश्मीर जाने से पहले और वहां से हिमाचल प्रदेश आने से पहले भी कोविड का टेस्ट करवाया था।

09 सिंतबर को हिमाचल प्रदेश पहुंचने के बाद घर में आइसोलेट हो गया था

यह व्यक्ति कोरोना नेगेटिव आया था, बताया जा रहा है की उसके बावजूद वह 09 सिंतबर को हिमाचल प्रदेश पहुंचने के बाद घर में आइसोलेट हो गया था। साथ ही ड्यूटी ज्वाइन करने से पहले उन्हें दोबारा से कोविड का टेस्ट करवाने के लिए कहा गया था।

टेस्ट आईजीएमसी में करवाया तो 18 को उनकी रिपोर्ट को कोरोना पॉजिटिव बताई गयी

17 सितंबर को उन्होंने अपना कोविड का टेस्ट आईजीएमसी में करवाया तो 18 को उनकी रिपोर्ट को कोरोना पॉजिटिव बताया गया। जिसके बाद व्यक्ति को 18 रात को ही मशोबरा शिफ्ट होने को कहा गया था।

02 दिन तक रहा तो उसे किसी भी तरह का लक्षण नहीं दिखाई दिया

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की वह 02 दिन तक रहा तो उसे किसी भी तरह का लक्षण नहीं दिखाई दिया। इसके बाद उसने अपनी कोविड की रिपोर्ट किसी तरह से निकलवाई, जिसमें वह कोरोना नेगेटिव आया था।

इसी के साथ हेमंत ने बताया कि उनके नाम के आगे हेमंत-25 लिखा गया था। जबकि एक और हेमंत था, जिसकी उम्र 26 थी, वह कोरोना पॉजिटिव था।

पीडि़त का कहना है कि 05 दिन से वह यहीं पर है और उसे अभी तक किसी तरह का लक्षण नहीं है

ऐसे में हेमंत-26 समझ कर उसे ही कोरोना पॉजिटिव बता दिया गया और उसे मशोबरा शिफ्ट कर दिया गया। इसी के साथ पीडि़त का कहना है कि 05 दिन से वह यहीं पर है और उसे अभी तक किसी तरह का लक्षण नहीं है।

इसी के साथ सीएमओ शिमला सुरेखा चोपड़ा का कहना है कि हो सकता है कि युवक पहले पॉजिटिव आया हो और बाद में नेगेटिव आ गया हो, IGMC शिमला की गड़बड़ी से सभी लोग परेशान है।

Negative patient shifted to Mashobra in Corona positive at IGMC Shimla

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *