सोलन, बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़, मंडी और पालमपुर को नगर निगम बनाने को लेकर जनता कर रही विरोध

jairam

हिमाचल प्रदेश में नए नगर निगम बनाने को लेकर जमकर विरोध उठने लगे हैं। प्राप्त जानकारी ले अनुसार बताया जा रहा है की सरकार ने हिमाचल प्रदेश के जिला सोलन, बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़, मंडी और पालमपुर को नगर निगम बनाने का फैसला लिया है।

इसी के साथ बताया जा रहा है की साथ लगती पंचायतों के लोगो नगर निगम में आने के लिए तैयार नहीं हैं, जिस को लेकर लोग जमकर विरोध कर रहे है।

सोलन को नगर निगम बनाने के विरोध में ग्रामीण सड़क पर उतर आए

इसी के साथ बताया जा रहा है की प्रदेश सरकार के निर्णय सोलन को नगर निगम बनाने के विरोध में ग्रामीण सड़क पर उतर आए हैं। इसी के साथ पालमपुर और मंडी की कई पंचायतों के लोग भी नगर निगम में शामिल नहीं होना चाहते हैं तथा इस का विरोध कर रहे है।

नगर निगम की जनसंख्या 50 से कम करके 40 हजार की गई

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की विधानसभा से नगर निगम संशोधन विधेयक पास हो गया है। इसी के साथ बताया जा रहा है की इसमें नगर निगम की जनसंख्या 50 से कम करके 40 हजार की गई है।

इसी के साथ बताया जा रहा ही की हिमाचल के जिला मंडी और पालमपुर नगर निगम बनाने के लिए नियमों में फिट नहीं हो रहे थे। इसी के साथ बताया जा रहा है की इसका कारण आबादी कम होना है।

मंडी शहरी निकाय की आबादी 27 हजार, जबकि पालमपुर की आबादी मात्र पैंतीस सौ

इसी के साथ मंडी शहरी निकाय की आबादी 27 हजार, जबकि पालमपुर की आबादी मात्र पैंतीस सौ है। साथ ही बताया जा रहा है की 17 पंचायतें मिलाने के बाद पालमपुर की आबादी 40 हजार होगी।

इसी तरह मंडी को भी निगम बनाने के लिए पंचायतें जोड़नी पड़ेंगी, जिस बजह से कई मंडी की भी कई पंचायतों के लोग नगर निगम बनाने के पक्ष में नहीं हैं।

पालमपुर को नगर निगम बनाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार पैरवी कर रहे

बताया जा रहा है की पालमपुर को नगर निगम बनाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार पैरवी कर रहे हैं,

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि जबकि मंडी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का गृह जिला है। इसी के साथ शहरी विकास विभाग ने इन्हें नगर निगम बनाने की कसरत शुरू कर दी है।

हिमाचल में अभी 2 नगर निगम हैं। एक राजधानी शिमला और दूसरा धर्मशाला

बताया जा रहा है की आबादी बढ़ाने के लिए पंचायतों के क्षेत्रों को मिलाया जा रहा है। हिमाचल प्रदेश में अभी 2 नगर निगम हैं। एक राजधानी शिमला और दूसरा धर्मशाला है।

इसी लिए धर्मशाला को नगर निगम कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में बनाया गया है तथा अब अन्य क्षेत्रो को भी नगर निगम में शामिल किया जा रहा है।

Public protest against Solan, Baddi-Barotiwala-Nalagarh, Mandi and Palampur to become municipal corporation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *