कोरोनाकाल में राजधानी शिमला के शहरवासियों को एक और झटका, नगर निगम की कवर्ड पार्किंग में होगी शुल्क की बढ़ोतरी

हिमाचल प्रदेश में कोरोनाकाल में राजधानी शिमला के शहरवासियों को एक और झटका लगने वाला है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की आने वाले दिनों में

उपनगरों में स्थित नगर निगम की कवर्ड पार्किंग में गाड़ियां खड़ी करने के एवज में लोगों को अब पहले से ज्यादा शुल्क चुकाना पड़ेगा।

उपनगरों में स्थित 17 कवर्ड पार्किंग की नई दरें तय करने जा रहा

इसी के साथ बताया जा रहा है की नगर निगम उपनगरों में स्थित 17 कवर्ड पार्किंग की नई दरें तय करने जा रहा है। इसी के साथ यह नई दरें येलो लाइन पार्किंग से ज्यादा होंगी। जिस बजह से शहरवासियो को अपनी जेब ढीली करनी पड़ सकती है।

वर्तमान शुल्क से 100 से लेकर 500 रुपये अधिक हो सकती है

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस प्रस्ताव पर नगर निगम शिमला सदन में चर्चा करवाने की तैयारी है। बताया जा रहा है की नई दरें वर्तमान शुल्क से 100 से लेकर 500 रुपये अधिक हो सकती है।

इसी के साथ कुल कितनी बढ़ोतरी होगी, यह फैसला अभी सदन लेगा तथा उसी के बाद इस पर निर्णय लिया जाएगा।

नॉन कामर्शियल एरिया में स्थित इन 17 कवर्ड पार्किंग में कुल 1,320 गाड़ियां पार्क होती हैं

शिमला शहर के नॉन कामर्शियल एरिया में स्थित इन 17 कवर्ड पार्किंग में कुल 1,320 गाड़ियां पार्क होती हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कई वार्डों में 02 मंजिला पार्किंग हैं तो कहीं एक मंजिला पार्किंग स्तिथ हैं। यह सभी छोटी पार्किंग हैं जिनमें 20 से 60 गाड़ियों को पार्क करने की क्षमता है।

बड़ी गाड़ी का मासिक शुल्क 800 रुपये है। जबकि छोटी कार का शुल्क 600 रुपये प्रति महीना

इसी के साथ बताया जा रहा है की इन पार्किंग का वर्तमान शुल्क सड़क किनारे लगाई गई येलो लाइन पार्किंग के बराबर है। इसी के साथ बड़ी गाड़ी का मासिक शुल्क 800 रुपये है।

जबकि छोटी कार का शुल्क 600 रुपये प्रति महीना है। इसी के साथ दो पहिया वाहन का मासिक शुल्क 350 रुपये है।

सड़क किनारे लगी येलो लाइन में गाड़ियों की सुरक्षा की कोई विशेष गारंटी नहीं

इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि येलो लाइन पार्किंग और कवर्ड पार्किंग के रेट बराबर होने पर शहरवासियों के साथ नगर निगम के अपने पार्षद भी सवाल उठा रहे हैं।

इसी के साथ इनका कहना है कि सड़क किनारे लगी येलो लाइन में गाड़ियों की सुरक्षा की कोई विशेष गारंटी नहीं है।

साथ ही कवर्ड पार्किंग में गाड़ियां ज्यादा सुरक्षित हैं। ऐसे में या तो येलो लाइन का शुल्क घटाया जाए या फिर कवर्ड पार्किंग के शुल्क बदले जाएं इसी के साथ बताया जा रहा है।

निगम येलो लाइन का शुल्क घटाने की बजाय कवर्ड पार्किंग का शुल्क बढ़ाने की तैयारी कर रहा

इसी मांग पर नगर निगम यह प्रस्ताव तैयार कर रहा है की इस का कितना शुल्क निर्धारित किया जाए। ऐसे में निगम येलो लाइन का शुल्क घटाने की बजाय कवर्ड पार्किंग का शुल्क बढ़ाने की तैयारी कर रहा है।

सदन की मंजूरी से ही बढ़ोतरी करने की तैयारी है। इसी के साथ सदन में अभी शुल्क को निर्धारित किया जाना है।

Another blow to the residents of the capital Shimla in the Coronaco, the fee will be increased in the covered parking of the municipal corporation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *