हिमाचल प्रदेश की कला और संस्कृति, कुल्लू की कैप्स और शॉल देश भर में प्रसिद्ध

हिमाचल प्रदेश अपनी कला और संस्कृति के लिए देश-विदेश में जाना जाता है, हर साल यहां भारी मात्रा में सैलानी घूमने और समय व्यतीत करने के ले आते है, हिमाचल प्रदेश की हस्तकला से बने वस्त्र देश विदेश में जाने जाते है।

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश की देवभूमि कुल्लू ली कैप्स और शॉल के साथ पहाड़ी टोपिया कुल्लू की सबसे लोकप्रिय कला कृतियों के लिए जाना जाता है। इसी के साथ पारंपरिक लेकिन स्टाइलिश और ट्रेंडी हेडवियर हिमाचल में ज्यादातर लोगों द्वारा पहने जाते हैं।

shaal himachal pradesh

खूबूसरत डिजाइन के साथ गोलाकार कलाकृति

हिमाचल प्रदेश में हस्त कला अपनी बनावट और खूबूसरती के लिए देश विदेश में जाने जाते है। इसी के साथ पर्यटकों द्वारा सबसे पसंद किये जाने वाली चीजों में से

एक है, यह आकार में कुछ खूबूसरत डिजाइन के साथ गोलाकार है, जो ऊन या कपास और कभी-कभी मखमल में बुना हुआ सामने की ओर होता है।

लाहौल-स्पीति में बहुत से हस्तकला से निर्मित वस्त्र बनाये जाते

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश अपनी हस्तकला के लिए देश-विदेश में जाना जाता है, हिमाचल प्रदेश के जिला चम्बा, कुल्लू, किन्नौर, तथा लाहौल-स्पीति में बहुत से हस्तकला से निर्मित वस्त्र बनाये जाते है, जो बहुत ही

गर्म और लाभदायक होते है, हिमाचल प्रदेश का जिला कुल्लू अपने शॉल के लिए सबसे लोकप्रिय मानी जाती है। जो कई प्रकार की डिजाइनों और रंगों में आती हैं जो पर्टयकों को बहुत ही आकर्षित करती है।

art and culture kullu

डिज़ाइन पौधों और जानवरों से प्रेरित होते हैं

इसी के साथ वह ज्यामितीय रूप से और अक्सर सीमाओं पर डिज़ाइन किए जाते हैं, यह डिजाइन बहुत ही आकर्षित और लोकप्रिय होते है, इसी के साथ कुछ डिज़ाइन पौधों और जानवरों से प्रेरित होते हैं।

जो देश-विदेश में जाने जाते है। इसी के साथ जिन्हें हल्के रंगों जैसे सफेद, ग्रे, चूने या ऑफ-व्हाइट के आधार पर बुना जाता है, इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में भेड़ की ऊन से बनी वस्तुए बेहद लोकप्रिय है।

यह वस्त्र अन्य वस्त्रो के मुकावले अधिक महंगे होते

जो लोगो द्वारा बहुत ही पसंद कि जाती है, पश्मीना रेशों, अंगोरा या याक ऊन से बनाए जाते हैं जो बहुत ही अद्भुत और आकर्षित होते है, यह वस्त्र अन्य वस्त्रो के मुकावले अधिक महंगे होते है,

जिस का कारण इन की निर्माण प्रक्रिया है, यह वस्त्र हाथो से बनाये जाते है, इसी के साथ लागत ऊन की उपलब्धता पर निर्भर करती है, यह वस्त्र बहुत ही अच्छी किस्म के होते है।

art and cultire manali

लाहौल-स्पीति और मनाली के कुछ प्रसिद्ध और लोकप्रिय क्षेत्रों जैसे कई जनजातियाँ मौजूद

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में किन्नौर, लाहौल, स्पीति और मनाली के कुछ प्रसिद्ध और लोकप्रिय क्षेत्रों जैसे कई जनजातियाँ मौजूद हैं जो वस्त्रो का व्यवसाय करती है। इसी के साथ हिमाचल प्रदेश के उत्तरपूर्वी भाग में किन्नौर एक खूबसूरत और लोकप्रिय घाटी है।

दोहरु, स्टाल और बुशहरी टॉपी इन में से सबसे लोकप्रिय

जो पूरे देश प्रदेश में किन्नौर काफी लोकप्रिय स्थान है। कुछ लोकप्रिय आइटम दोहरु, स्टाल और बुशहरी टॉपी इन में से सबसे लोकप्रिय हैं,

इसी के साथ महिलाओं को विशेष रूप से विवाह और धार्मिक समारोहों जैसे कार्यों और घटनाओं में भारी चांदी के गहने पहने हुए देखा जा सकता है जो बहुत ही आकर्षित और खूबूसरत होते है।

मनाली में पुरुषों के लिए पारंपरिक पोशाक में ‘सुल्तान’ ‘चोल डोरा’ प्रसिद्ध

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश के उप्पर जिले लाहौल- स्पीति के आदिवासी लोग भी आकर्षक रंगों में आकर्षक परिधान पहनते हैं, जो बहुत ही खूबूसरत और आकर्षित होते है।

इसी के साथ मनाली में पुरुषों के लिए पारंपरिक पोशाक में ‘सुल्तान’ (शरीर के निचले हिस्से पर) और ‘चोल’ (ऊपरी हिस्से पर) में ‘डोरा’ नाम की बेल्ट होती है।

धातू’ या ‘थिपु ’नामक लंबी शॉल पहनती हैं

जो इन लोगो की लोकप्रिय परम्परा को प्रदर्शित करती है। इसी के साथ महिलाएं अपने सिर पर attoo टैटू ’और धातू’ या ‘थिपु ’नामक लंबी शॉल पहनती हैं, जिनका दृश्य बहुत ही अद्भुत आदिवासी कपड़े ज्यादातर हाथ से बुने जाते हैं और इसलिए इतने लोकप्रिय हैं।

लोग पारंपरिक और जातीय वेशभूषा पहनने के शौकीन

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश के लोग पारंपरिक और जातीय वेशभूषा पहनने के शौकीन हैं, इसी के साथ वह इसमें गर्व महसूस करते हैं, इसी के साथ अपनी जातीयता और विविधता की रक्षा और सुरक्षा करना चाहते हैं, इसी के साथ दुनिया भर में अपनी पहचान बनाई है।

कला कृत्यों देश विदेश में अपनी विशेषता के लिए जाने जाते

हिमाचल प्रदेश की कला कृत्यों देश विदेश में अपनी विशेषता के लिए जाने जाते है। इसी के साथ ब्राह्मणों और राजपूतों के साथ कई जनजातियाँ हैं, जो पहाड़ी राज्य में निवास करती हैं।

इसी के साथ उनमें से कुछ गद्दी, गुज्जर, किन्नर, लाहौलिस और पंगावल हैं। उनकी जातीय वेशभूषा भी राजपूतों और ब्राह्मणों के समान है जो बहुत ही अद्भुत और आकर्षित होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *