हिमाचल प्रदेश की भूगोलिक स्तिथ, जानिए हमारे साथ

geopolitics-of-himachal-pradesh

आज हम आप को अपनी इस पोस्ट के द्वारा हिमाचल प्रदेश के भूगोल के बारे में जानकारी देने जा रहे है हो आप के बहुत काम आ सकती है इस से पहले हमने आप को हिमाचल प्रदेश में स्तिथ नदियों के बारे में जानकारी दी है।

आज हम आप को अपने इस पोस्ट के द्वारा हिमाचल के समपरण भूगोल की जानकरी देने जा रहे है, तो हमारी इस हिमाचल प्रदेश का कुल क्षैत्रफल 55,673 किमी है। जो (21,495 वर्ग मील) क्षेत्र में फैला हुआ है।

प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध

हिमचाल प्रदेश के उत्तर में जम्मू और कश्मीर साथ ही हिमाचल के दक्षिण-पश्चिम में पंजाब और दक्षिण में हरियाणा साथ ही दक्षिण-पूर्व में उत्तराखंड और पूर्व में तिब्बत है। हिमाचल प्रदेश के एक पहाड़ी क्षेत्र है।

जो अपने प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध है तथा अपने लोकप्रिय पर्टयक स्थानों के लिए जाना जाता है। यहां बहुत से ऐसे क्षेत्र है जो अपनी अपनी अपनी लोकप्रिय के लिए जाना जाता है।

हिमाचल प्रदेश की समुंद्रतल से ऊंचाई

हिमाचल प्रदश की समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 465 मीटर (1,526 फीट) से 6,826 मीटर (22,395 फीट) तक है। इसी के साथ यह क्षेत्र पहाड़ों की शिवालिक श्रेणी से लेकर जास्कर तक फैला है।

इसी के साथ पश्चिम से पूर्व और दक्षिण से उत्तर की ओर ऊंचाई में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, इसी के साथ 6,816 मीटर की दूरी पर रेओ पुर्जिल हिमाचल प्रदेश की सबसे ऊँची पर्वत चोटी है।

शिला चोटी और रेओ पुरगईल चोटी में मतभेद

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश के शैक्षिक संस्थानों, रोजगार बोर्डों और विभिन्न सरकारी वेबसाइटों के अधिकांश पुस्तकों और पुराने अभिलेखों में शीला या शिला को उच्चतम पर्वत के रूप में दिखाया गया है।

मगर ऐसा नहीं है। इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में 7,125 या 7,025 मीटर नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को यह चिह्नित करने के लिए मजबूर करना पड़ता है।

माउंट शिला समुद्र तल से केवल 6,132 मीटर (20,118 फीट) पर स्तिथ

इसी के साथ प्रतियोगी परीक्षाओं में सही उत्तर देना, गलत जानकारी देना जो सही नहीं है। इसी के साथ यह पर्वत हिमाचल प्रदेश के शीर्ष 10 उच्चतम स्थानों में भी नहीं है, इसी के साथ माउंट शिला समुद्र तल से केवल 6,132 मीटर (20,118 फीट) पर स्तिथ है।

बाहरी हिमालय (शिवालिक) पर्वत

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में बाहरी हिमालय (शिवालिक) पर्वत माला को कहा जाता है, इसी के साथ कम हिमालय (मध्य क्षेत्र) को कहा जाता है, इसी के साथ महान हिमालय (उत्तरी क्षेत्र) इसी के साथ ज़ांस्कर रेंज (शिला पीक-किन्नौर, पांगी चम्बा में स्तिथ है।

शिवालिक श्रेणी में निचली पहाड़ियाँ में समुद्र तल से 600 मीटर की ऊंचाई पर स्तिथ

इसी के साथ शिवालिक श्रेणी में निचली पहाड़ियाँ में (समुद्र तल से 600 मीटर) ऊपर स्तिथ हैं। इस क्षेत्र की पहाड़ियाँ अत्यधिक अचेतन जमाव से बनी हैं। साथ ही जिसके परिणामस्वरूप उच्च कटाव और वनों की कटाई होती है।

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ पर्वत श्रृंखाला

हिमाचल प्रदेश के कम हिमालय धौलाधार और पीर पंजाल पर्वतमाला की ओर एक क्रमिक ऊंचाई से देखा जाता है। इसी की साथ हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला की पहाड़ियों में उदय अधिक तेजी से होता है।

इसी के साथ जिसके दक्षिण में चूड़ – चंदनी (3,647 मीटर) की ऊँची चोटी स्तिथ है। सतलुज नदी के उत्तर में, उदय स्थिर है।

धौलाधार पर्वत माला की ऊँचाई लगभग 4,550 मीटर

इसी के साथ कांगड़ा घाटी एक अनुदैर्ध्य कुंड माना जाता है। जो धौलाधार श्रेणी के तल पर स्तिथ है। इसी के साथ धौलाधार (जिसका अर्थ है ‘सफेद चोटी’) है, की ऊँचाई लगभग 4,550 मीटर है। इसी के साथ कांगड़ा घाटी के ऊपर इसका विस्तार 3,600 मीटर तक है।

रोहतांग दर्रा की ऊंचाई (3,978 मीटर)

इसी के साथ कम हिमालय पर्वतमाला का सबसे बड़ा, पीर पंजाल, सतलुज के तट के पास ग्रेटर हिमालयन रेंज से दूर स्तिथ है। इसी के साथ यहां कई ग्लेशियर मौजूद हैं, साथ ही कई पास पीर पंजाल में भी स्थित हैं। साथ ही रोहतांग दर्रा (3,978 मीटर) इनमें से एक माना जाता है।

ग्रेट हिमालयन रेंज (5,000 से 6,000 मीटर) पूर्वी सीमा के साथ चलती

इसी के साथ ग्रेट हिमालयन रेंज (5,000 से 6,000 मीटर) पूर्वी सीमा के साथ चलती है, इसी के साथ सतलुज नदी द्वारा पार की जाती है। इसी के साथ ही इस रेंज में कुछ प्रसिद्ध दर्रे और पास स्तिथ हैं,

जैसे कंगला (5,248 मीटर), बारा लचा (4,512 मीटर), परंग (5,548 मीटर) और पिन पार्वती (4,802 मीटर) इस श्रेणी में स्तिथ लोकप्रिय ऊपर प्रसिद्ध दर्रे है।

ज़ांस्कर रेंज, सबसे पूर्वी सीमा तथा किन्नौर और स्पीति को तिब्बत से अलग करती

हिमाचल में स्तिथ ज़ांस्कर रेंज, सबसे पूर्वी सीमा तथा किन्नौर और स्पीति को तिब्बत से अलग करती है। इसी के साथ इसमें 7,026 मीटर ऊंची चोटियां स्तिथ हैं। इसी के साथ प्रसिद्ध चोटियों में से कुछ शिला (7,026 मीटर) और रिओउ फार्गुल (6,791 मीटर) है।

महान हिमालय पर्वतमाला पर कई ग्लेशियर स्तिथ

हिमाचल में स्तिथ इस श्रेणी की सबसे ऊंची चोटियों में से हैं। इसी के साथ ज़ास्कर और महान हिमालय पर्वतमाला पर कई ग्लेशियर स्तिथ है जंहा से हिमाचल प्रदेश में स्तिथ विभिन्न नदियों से पानी मिलता है।

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश अपनी समृद्ध वनस्पतियों के लिए जाना जाता है, यहां विभिन्न प्रकार की जड़ी बुटिया पाई जाती है। इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में 38% क्षेत्र में वन हैं। इसी के साथ यह वन्यजीवों की एक किस्म भी है।

हिमाचल का सबसे बड़ा शहर

हिमाचल प्रदेश में 49 शहर और कस्बे स्तिथ हैं। इसमें सबसे छोटा शहर नैना देवी है, इसी के साथ इसमें सबसे बड़ा शहर शिमला है जिसकी कुल आबादी 68,56,509 है।

इसी के साथ शहरी आबादी हिमाचल की जनसंख्या का केवल 7.5% है। अधिकांश आबादी हिमाचल प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *