river in himachal

हिमाचल प्रदेश एक बहुत ही लोकप्रिय और प्रसिद्ध पर्टयक राज्य है, यहां हर साल भारी मात्रा में सैलानी घूमने और समय व्यतीत करने के लिए आते है। यहां बहुत से लोकप्रिय पर्टयक स्थान है जो अपनी अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते है।

सिंधु और गंगा दोनों घाटियों को पानी प्रदान करती यह नदिया

आज हम आप को अपनी इस पोस्ट के द्वारा हिमाचल प्रदेश में स्तिथ नदियों के बारे में बताने जा रहा हूँ की हिमाचल प्रदेश में कौन कौन सी नदिया बहती है तथा कहा कहा से निकलती है, हिमाचल प्रदेश की यह नदिया सिंधु और गंगा दोनों घाटियों को पानी प्रदान करता है।

पांच नदिया बहती है हिमाचल में मुख्य

इसी के साथ इस क्षेत्र की जल निकासी प्रणाली चंद्र भागा, चेनाब, रावी, ब्यास, सतलुज और यमुना हैं, इसी के साथ यह नदियाँ बारहमासी मतलब यह नदिया 12 महीने बहती हैं।

इसी के साथ बर्फ और वर्षा द्वारा पोषित होती हैं यह नदिया इसी के साथ वह प्राकृतिक वनस्पति के व्यापक आवरण द्वारा संरक्षित हैं इन नदियों के किनारे बहुत से लोकप्रिय पर्टयक स्थान है। जो अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते है।

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ इन पांच मुख्य नदियों के किनारे बहुत से रोमांचित पर्टयक स्थान है, इन नदियों में बहुत सी साहसिक गतिविधिया भी आयोजित की जाती है, जिस के लिए देश विदेश में यहां यात्री हिमाचल की यात्रा करते है।

01 व्यास नदी

व्यास नदी हिमाचल प्रदेश एक पहाड़ी राज्य है जंहा बहुत से लोकप्रिय और प्रसिद्ध दर्रे या पास स्तिथ है। हिमाचल की यह नदिया ब्यास रोहतांग दर्रे के पास पीर पंजाल श्रेणी से निकलती है, इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में लगभग 256 किलोमीटर (159 मील) तक बहता है।

beas river

यहां कई नदी कई सहायक नदियों द्वारा बनती है, साथ ही प्रमुख सहायक नदियाँ पारबती, हर्ला, सैंज, उहल, सुहेती, लूणी, बाणगंगा और चौकी, चक्की चरान खड्ड, इत्यादि। व्यास नदी का वैदिक नाम विपाशा है। तथा संस्कृत नाम विपाशा है।

व्यास नदी हिमाचल प्रदेश के जिला काँगड़ा, मंडी, कुल्लू, तथा हमीरपुर में बहती है।

02 चिनाव नदी

चंद्रभागा या चिनाब इस का (वैदिक नाम अस्सनी) यह सबसे बड़ी नदी (पानी की मात्रा के संदर्भ में) मनाई जाती है। इस नदी में पपाणि की मात्रा सबसे अधिक माई जाती है।

लाहौल में टांडी नामक स्थान में यह चंद्रा और भागा नदियों के मिलने से बनती है। यह 122 किलोमीटर लम्बी नदी है।

chenav river

(76 मील) बहती है और 7,500 वर्ग किलोमीटर (2,900 वर्ग मील) के क्षेत्र को कवर करती है। हिमाचल प्रदेश के बाद यह कश्मीर में प्रवेश करने से पहले। चंद्रा बंजर आदिवासी भूमि से होकर गुजरती है।

चिनाव नदी भुजिंद चम्बा में हिमाचल प्रदेश में प्रवेश करती है तथा संसारी नाला नामक स्थान में हिमाचल को छोड़ देती है।

03 रावी नदी

रावी नदी का जन्म हिमाचल प्रदेश के जिला काँगड़ा के बड़ा बंगाल दर्रे से हुआ है। यह ग्लेशियर से बने भदेल और तांतगारी द्वारा बनाई गई एक संयुक्त जल धारा है।

यद नदी लगभग 158 किलोमीटर (98 मील) लंबी है साथ ही इसका जलग्रहण क्षेत्र लगभग 5,451 वर्ग किलोमीटर (2,105 वर्ग मील) है। चम्बा शहर इस नदी के दाहिने किनारे पर स्थित है।

ravi river

रावी नदी का वैदिक नाम पुरषनी तथा संस्कृत नाम इरावती है। भुडल, सिउल, बैरा, भण्डल, तंतः गिरी, साहू यह सभी रवि की सहायक नदिया है। खैरी नामक स्थान में यह हिमाचल को छोड़ देती है।

04 सतलुज नदी

हिमाचल में बहने वाली सबसे लम्बी नदी सतलुज नदी है, इस नदी की उत्पत्ति सुदूर तिब्बत में हुई है। नदी महान हिमालय और ज़ास्कर दोनों के मध्य से बहती हुई हिमाचल में आती है। यह नदी भारत-तिब्बत सीमा (शिपकिला के पास) को पार करती है,

जिसके बाद यह स्पीति नदी उत्तर से सतलज में मिलती है साथ ही गोरज से गुजरते हुए यह भाखड़ा के पहाड़ों से निकलती है। हिमाचल प्रदेश में बहने वाली इस नदी का जलग्रहण क्षेत्र लगभग 20,000 वर्ग किलोमीटर (7,700 वर्ग मील) है।

satluj river

सतलुज नदी कैलाश मानसरोबर के राक्षस झील से निकलती है। इसी के साथ यह हिमाचल प्रदेश के जिला किन्नौर के शिपकी नामक स्थान में हिमाचल में प्रवेश

करती है, तथा भागड़ा नांगल में पंजाब में प्रवेश कर जाती है तथा अंत में यह पाकिस्तान में सिंध नदी के साध मिल जाती है।

बासपा, स्पीती, नोगली खड्ड और स्वां बासपा, सतलुज से कड़छम (किन्नौर) में, नोगली खड्ड रामपुर बुशहर के पास सतलुज में मिलती है यह सभी सतलुज की सहायक नदिया है।

05 यमुना नदी

हिमाचल प्रदेश की सबसे छोटी नदी यमुना नदी है, जिस का उद्गम स्थल उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के यमुनोत्री में है। इसी के साथ इस नदी का

हिमाचल प्रदेश में कुल जलग्रहण क्षेत्र 2,320 वर्ग किलोमीटर (900 वर्ग मील) है। इसकी सहायक नदियाँ टोंस, गिरि और बाटा हैं। यह गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है।

yamuna river

इसी के साथ घग्गर नदी हिमाचल प्रदेश के शिवालिक पहाड़ियों में डगशाई गाँव में 1,927 मीटर (6,322 फीट) की ऊँचाई पर समुद्र तल के साथ ही पंजाब और

हरियाणा राज्यों से होकर राजस्थान में भी बहती है। साथ ही सिरसा के दक्षिण-पश्चिम में , हरियाणा और राजस्थान में तलवाड़ा झील के किनारे स्तिथ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *