हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी में स्तिथ लारजी जल विद्युत परियोजना

larji hydroelectric project

हिमाचल प्रदेश एक पहाड़ी राज्य है, यहां बहुत से छोटे बड़े पहाड़ है, साथ ही यहां बहुत सी छोटी बड़ी जलधाराएं है, जो बारह महीने बर्फ से डक्की रहती है, इन्ही जलधारो में बहुत सी जलविद्युत परियोजनाएं स्तिथ है।

इन्ही में से एक है लारजी पनबिजली परियोजना जिस को 27 दिसंबर 2006 में चालू किया गया था। इसकी कुल स्थापित क्षमता 126 मेगावाट है।

डैम में नदी के प्रकार का प्लांट चलाया जाता

इसी के साथ यह परियोजना का प्रकार मेजर है, क्योंकि पौधे की क्षमता 25 मेगावाट से अधिक है। डैम में नदी के प्रकार का प्लांट चलाया जाता है साथ ही इस पावर प्लांट की स्थिति पूरी हो गई है और आपरेशनल है।

लारजी पानी का स्रोत ब्यास नदी है, और बेसिन राष्ट्रीय सीमा तक सिंधु नदी है इसी के साथ स्टेशन उत्तरी हाइड्रोइलेक्ट्रिक क्षेत्र में स्थित है जो बिजली को उत्पादित करता है।

राज्य विद्युत बोर्ड द्वारा स्वामित्व और संचालित किया जाता

लारजी पावर प्लांट हिमाचल प्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड द्वारा स्वामित्व और संचालित किया जाता है, इसी के साथ पनबिजली परियोजना के लाभार्थी राज्य एचपी और अन्य पड़ोसी राज्य हैं। साथ ही बिजली परियोजना 2006 में पूरी हो गई है।

पावर स्टेशन में इस्तेमाल होने वाले टर्बाइन की कुल संख्या 03

साथ ही टरबाइन का इस्तेमाल किया जाने वाला प्रकार कपलान है और पावर स्टेशन में इस्तेमाल होने वाले टर्बाइन की कुल संख्या 03 है प्राप्त जानकारी के

अनुसार बताया जा रहा है की प्रति टरबाइन क्षमता 42 मेगावाट होगी और हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट की कुल स्थापित क्षमता 126 मेगावाट (यानी 42 मेगावाट x 3 यूनिट) है।

पावर प्लांट का जनरेटर भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड का हिस्सा

इस लारजी टर्बाइन और पावर प्लांट का जनरेटर भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड का है साथ ही इस पावर प्लांट की इकाई का आकार 126 मेगावाट (3 यूनिट x 42 मेगावाट) है साथ ही इस का संचालन में 03 इकाइयाँ द्वारा किया जाता है।

हिमाचल प्रदेश में मंडी जिले की ब्यास नदी में बनाया गया प्लांट

यदि आप भी हिमाचल प्रदेश में स्तिथ इस लारजी हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट को देखने आना चाहते है, तो आप यहां सड़क मार्ग द्वारा आसानी से पहुंच सकते है।

यह भारतीय राज्य हिमाचल प्रदेश में मंडी जिले की ब्यास नदी में बनाया गया प्लांट है। आप इस पावर स्टेशन को सड़क, रेल या वायु मार्ग से पहुंचा सकते हैं इसी एक साथ लारजी पावर प्लांट से निकटतम निकटतम जुड़ा शहर मंडी है।

मंडी से लगभग 54 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह प्लांट

साथ ही बिजली संयंत्र मंडी से लगभग 54 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, इसी के साथ आपको मंडी से पावर स्टेशन तक टैक्सी या बस सेवाएं मिल जायेगी जंहा से

आप अपने किसी भी वाहन द्वारा यहां आसनी से पहुंच सकते है। मंडी रेलवे स्टेशन निकटतम अच्छी तरह से जुड़ा हुआ रेलवे स्टेशन है।

इसी के साथ यहां निकटतम हवाई अड्डा भुंतर में कुल्लू हवाई अड्डा है। जंहा से आप यहां टैक्सी द्वारा आसनी से पहुंच सकते है, मंडी से लगभग इस परियोजना लगभग 75 किमी की दूरी पर स्थित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *