दुनिया की सबसे ऊंची जल विद्युत परियोजना, रोंगटोंग जल विधुत परियोजना

रोंगटोंग जल विधुत परियोजना हिमाचल प्रदेश में स्तिथ दुनिया की सबसे ऊंची जल विद्युत परियोजना है, हिमाचल में स्तिथ यह रोंगटोंग परियोजना 2MW की है, हिमाचल प्रदेश के जिला लाहौल-स्पीति में स्थित है, यह रोंगटोंग परियोजना नालेहा, स्पीति नदी की एक सहायक नदी पर बनी है।

3,600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह परियोजना

बर्फ से बने क्षेत्र में 3,600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह परियोजना इस क्षेत्र के आदिवासियों के सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए चलाई गई पहली पनबिजली परियोजना थी। साथ ही यह दुनिया में सबसे ऊँची जल विधुत परियोजनाओं में से एक है।

नाहाला में स्तिथ यह रोंगटोंग एक 2 मेगावाट की परियोजना

हिमाचल प्रदेश के जिला लाहौल स्पीति के नाहाला में स्तिथ यह रोंगटोंग एक 2 मेगावाट की परियोजना है, इसी के साथ यह परियोजना समुन्द्तल से 3,788 मीटर की ऊंचाई पर टैप की गई बर्फ से चलने वाली पानी की रनगति को 2,825 मीटर लंबे चैनल और 259 मीटर लंबी सुरंग के माध्यम से 14,000 क्यूबिक मीटर की क्षमता

वाले खुले जलाशय में मोड़ दिया जाता है, लाहौल स्पीति में स्तिथ यह परियोजना एक अहम परियोजना है। जिस बजह से लाहौल क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति की गयी है।

लाहौल स्पीती की एक अहम परियोजना

इसी के साथ इस में APE पावर प्राइवेट लिमिटेड द्वारा नवीनीकृत किया गया है, इसी के साथ लिमिटेड, एपीई पावर आरयूकेटीआई (4 × 375 किलोवाट) हाइड्रो

इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट का भी नवीनीकरण करता है, हिमचाल प्रदेश का यह एक अहम परियोजना है। इसी के साथ स्पीति में स्तिथ इस परियोजना को दिसम्बर 1986 में

तैयार किया गया था। जिस की अनुमिति लागत 2.82 करोड़ थी। साथ ही यह परियोजना रौंग – टोंग पर स्पीति नाले पर स्पीति की सहायक नदी पर स्थित हिमाचल प्रदेश की एक अहम परियोजना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *