22 नवंबर को हिमाचल के 16 केंद्रों में होगी सेट की परीक्षा, केंद्र हुए चयनित

set exam in himachal

हिमाचल प्रदेश के विवि और कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने के लिए अनिवार्य स्टेट एलिजिबिलिटी टेस्ट 22 नवंबर को होना तय हुआ है, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की प्रदेश के राज्य

लोकसेवा आयोग की ओर से 22 नवंबर को हिमाचल प्रदेश के 16 केंद्रों में यह परीक्षा ली जाएगी, इसी के साथ 22 विषयों की इस परीक्षा का शेड्यूल आयोग ने जारी कर दिया है।

कोविड-19 से बचाव के लिए जारी एसओपी में यह परीक्षा ली जाएगी

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में सुबह और दोपहर में 02 सत्र में यह परीक्षा आयोजित की जायेगी। इसी के साथ बताया जा रहा है की कोविड-19 से बचाव के लिए जारी एसओपी में यह परीक्षा ली जाएगी, इसी के साथ इस परीक्षा में शामिल होने के लिए आयोग के पास 25,691 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।

आयोग ने रोलनंबर और एडमिट कार्ड वेबसाइट पर अपलोड कर दिए

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की आयोग ने रोलनंबर और एडमिट कार्ड वेबसाइट पर अपलोड कर दिए हैं, इसी के साथ बताया जा रहा है की लोकसेवा

आयोग के सचिव आशुतोष गर्ग ने बताया कि अब परीक्षा केंद्रों में कोई भी बदलाव नहीं किया गया है, इसी के साथ मिली जानकारी के अनुसार स्टेट एलिजिबिलिटी टेस्ट सेट 22 नवंबर को होगा।

पेपर सुबह 10:30 से 11:30 और दूसरा पेपर दोपहर 2:00 से 4:00 बजे तक होगा

इसी के साथ परीक्षा का यह पहला पेपर सुबह 10:30 से 11:30 और दूसरा पेपर दोपहर 2:00 से 4:00 बजे तक होगा साथ ही आयोग ने शिमला, धर्मशाला, कांगड़ा, पालमपुर,कुल्लू, हमीरपुर, बिलासपुर, सुन्नी, धामी, सोलन,

मंडी, सुंदरनगर, बल्ह नाहन, ऊना, और चंबा में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, हिमाचल के इन्ही सभी परीक्षा केंद्रों में उचित शारीरिक दूरी बनाते हुए तथा प्रदेश में फैले कोरोना संकट के दौरान अभ्यर्थियों को बैठाया जाएगा।

थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही परीक्षा केंद्रों में प्रवेश दिया जाएगा

साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही परीक्षा केंद्रों में प्रवेश दिया जाएगा, इसी के साथ बताया जा रहा है की फेस मास्क पहनना सभी के लिए अनिवार्य रहेगा, प्राप्त जानकारी के अनुसार इन परीक्षा केन्द्रो में सैनिटाइजर और साबुन की केंद्रों में पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी।

कोरोना संक्रमित अभ्यर्थी की परीक्षा लेने के लिए अलग से बंदोबस्त किया जाएगा

इसी के साथ अगर परीक्षा में शामिल होने वाला कोई अभ्यर्थी कोरोना पॉजिटिव निकलता है, तो संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है, इसी के साथ ऐसे अभ्यर्थी की परीक्षा लेने के लिए अलग से बंदोबस्त किया जाएगा

साथ ही स्थानीय प्रशासन के सहयोग से इन अभ्यर्थियों की परीक्षा ली जाएगी, जिसे कोरोना संक्रमित द्वारा बनाये गए नियमो को मद्देनजर रखते हुए लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *