लाहौल-स्पीति जिले किये जाएंगे एडवांस लैंडिंग ग्राउंड तैयार

advance landing

हिमाचल प्रदेश की चीन के साथ लगातार बढ़ती तनातनी और हिमाचल प्रदेश से लगती 240 किलोमीटर लंबी सीमा पर चीनी सेना की गतिविधियों को देखते हुए अब लाहौल-स्पीति जिले में एडवांस लैंडिंग ग्राउंड तैयार किये

जाएंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ने इसके लिए हिमाचल प्रदेश सरकार से जमीन तलाशने को कहा है।

रक्षा मंत्रालय उनका सर्वे कर उपयुक्त स्थानों पर लैंडिंग ग्राउंड तैयार करने की बात कहि

इसी के साथ बताया जा रहा है की प्रदेश सरकार ने जमीन चिह्नित होने के बाद रक्षा मंत्रालय उनका सर्वे कर उपयुक्त स्थानों पर लैंडिंग ग्राउंड तैयार करने की बात कहि है।

इसी के साथ बताया जा रहा है कि जहां सामान्य समय में नागरिक उड्डयन, वहीं युद्ध जैसे हालात में सेना इसका उपयोग कर सकेगी जिस से भारतीय सेना को लाभ मिल पायेगा।

लाहौल-स्पीति और किन्नौर जिले की करीब 240 किलोमीटर से ज्यादा लंबी सीमा चीन के साथ लगती

इसी के साथ डीजीपी संजय कुंडू ने पुष्टि करते हुए बताया कि रक्षा मंत्रालय ने स्पीति में इसके लिए हिमाचल प्रदेश को जमीन तलाशने को कहा है, इसी के साथ लाहौल-स्पीति और किन्नौर जिले की करीब 240 किलोमीटर से ज्यादा लंबी सीमा चीन के साथ लगती है।

जिस पर भारत के सेना तैनात है, इसी के साथ लद्दाख के गलवां में चीन के साथ हुई भारतीय सेना की भिड़ंत के बाद चीन की एयरफोर्स ने लाहौल-स्पीति के समदो में 08 किलोमीटर अंदर तक उड़ान भरने का दुस्साहस किया था।

DGP संजय कुंडू को पुलिस अधिकारियों की एक टीम भेजने को कहा

इसी के साथ बताया जा रहा है इस घटना के बाद हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने इन सुदूरवर्ती क्षेत्रों की सुरक्षा पर चिंता जताते हुए DGP संजय

कुंडू को पुलिस अधिकारियों की एक टीम भेजने को कहा था, इसी के साथ 06 आईपीएस अधिकारियों की टीम सीमा से सटे अलग-अलग इलाकों में भेजी गई है।

खुफिया एजेंसियों और जिला प्रशासन से फीडबैक लेकर एक प्रस्तुति राज्यपाल को राजभवन में दी

जिन्होंने स्थानीय लोगों तथा खुफिया एजेंसियों और जिला प्रशासन से फीडबैक लेकर एक प्रस्तुति राज्यपाल को राजभवन में दी है।

इसी दौरान बताया गया कि एडवांस पोस्ट के इलाकों में किसी आपात स्थिति में सेना के उतरने के लिए व्यवस्था तक नहीं थी, जिसको लेकर स्थानीय पुलिस भी बेहद चिंतित थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *