दीपावली की रात को धर्मशाला शहर की हवा सामान्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा दूषित

air in diwali in himachal

हिमाचल प्रदेश में इस साल दीपावली की रात को धर्मशाला शहर की हवा सामान्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा दूषित रही प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की प्रदेश में इस साल कोरोना काल में पटाखे ज्यादा मात्रा में फोड़े गए है।

दीपावली पर फोड़े गए पटाखों के कारण हवा की शुद्धता मोडरेट रही

इसी के साथ बताया जा रहा है की हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्र काला-अंब, पावंटा-साहिब, परवाणू में उद्योगों से निकलने वाले प्रदूषण के साथ-साथ दीपावली पर फोड़े गए पटाखों के कारण हवा की शुद्धता मोडरेट रही है।

धर्मशाला एकमात्र ऐसा शहर है, जहां पर हवा की गुणवत्ता अच्छे स्तर की नहीं थी

इसी के साथ बताया जा रहा है की हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्रों के अतिरिक्त धर्मशाला एकमात्र ऐसा शहर है, जहां पर हवा की गुणवत्ता अच्छे स्तर की नहीं थी, यहां लोगो ने कोरोना काल के दौरान भी भारी मात्रा में पटाकेबाजी की जिस बजह से वायु प्रदूषित हुई।

छोटी दीवाली पर केवल बददी ही एकमात्र ऐसा स्थान था, जहां पर हवा की गुणवत्ता दूषित

इसी के साथ छोटी दीवाली पर केवल बददी ही एकमात्र ऐसा स्थान था, जहां पर हवा की गुणवत्ता दूषित हुई थी, इसी के साथ बताया जा रहा है की हिमाचल प्रदेश में एनजीटी के दिशा-निर्देशों की बात की जाए तो दूसरे राज्यों की तुलना में हिमचाल प्रदेश में इसका पालन हुआ है।

प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बेहतर स्थिति रही

इसी के साथ दिवाली में मामूली बढ़त रही, जबकि सामान्य दिनों में औद्योगिक क्षेत्रों को छोड़ दें तो हिमाचल प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बेहतर स्थिति रही है, इसी

के साथ बताया जा रहा है की राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव डॉ. निपुण जिंदल ने कहा कि यदि वायु प्रदूषण की बात की जाए तो शहरों में डेढ़ सौ से नीचे का स्तर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *