खाली चल रहे हिमाचल प्रदेश में कला अध्यापक के पद को भरने की उठी मांग

teacher in himachasl

हिमाचल प्रदेश में बेरोजगार कला अध्यापक संघ प्रदेश के जिला बिलासपुर की राज्य कार्यकारिणी के साथ गुरुवार को एक वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से बात हुई है, जिसमे सभी ने अपना-अपना पक्ष सामने रखा है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है।

जिला बिलासपुर कार्यकारिणी की अध्यक्ष अंजना कुमारी ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि हमें वर्ष 2005 से 2009 तक प्रदेश सरकार ने खुद मान्यता प्राप्त संस्थानों से कला अध्यापक का प्रशिक्षण करवाया है।

लगभग 8,000 प्रशिक्षित कला अध्यापक प्रशिक्षण लेने के बाद बेरोजगार हो गए

इसी के साथ बताया जा रहा है की ताकि हमें रोजगार के अवसर प्रदान हो सकें इसी के साथ लेकिन जैसे ही कला अध्यापक का अंतिम बैच खत्म हुआ है, तो सरकार ने इस पर कई तरह की कंडीशनें लगा दीं है, इससे लगभग 8,000 प्रशिक्षित कला अध्यापक प्रशिक्षण लेने के बाद बेरोजगार हो गए है, जो एक गंभीर मामला है।

मौजूदा समय में सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे हजारों बच्चों को सरकार बिना कला अध्यापक के ही पढ़ाई जा रही है, जिस बजह से प्रदेश के बहुत से छात्रों को परेशानिया का सामना करना पड़ रहा है।

सरकारी स्कूल में सभी विषयों के अध्यापक नाममात्र

इसी के साथ मिली जानकारी के अनुसार इससे बच्चों के माता-पिता अपने बच्चों को सरकारी स्कूल से प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने के लिए भेज रहे हैं, ताकि उनके

भविष्य में उन्हें किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े, इसी के साथ सरकारी स्कूल में सभी विषयों के अध्यापक नाममात्र ही होते हैं।

बेरोजगार कला अध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष मुकेश भारद्वाज ने दी जानकारी

इसी के साथ बेरोजगार कला अध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष मुकेश भारद्वाज ने कहा कि जिस स्कूल में कला अध्यापक का पद खाली चल रहा है,

उन बच्चों के साथ अन्याय न किया जाए, उन्होंने इस को लेकर बहुत सी अन्य बाते में सामने रखी ताकि इन पदो पर नियुक्ति की जाए।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व शिक्षा मंत्री श्री गोविंद सिंह ठाकुर से की मांग

इसी के साथ इसलिए हम प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व शिक्षा मंत्री श्री गोविंद सिंह ठाकुर से मांग है कि हिमाचल प्रदेश में आने वाले पंचायत चुनावों से पहले खाली चल रहे कला अध्यापकों के पदों को जल्द से जल्द भरा जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *