नौणी विवि ने बागवानों के लिए पौधों की डिमांड भेजने के लिए ऑनलाइन सुविधा शुरू की

हिमाचल प्रदेश में फैले कोरोना काल में इस संक्रमण से बचाव के लिए पहली बार नौणी विवि ने प्रदेश के बागवानों के लिए पौधों की डिमांड भेजने को ऑनलाइन सुविधा शुरू की है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है

की बागवान डॉ. वाईएस परमार बागवानी विवि की वेबसाइट पर उपलब्ध करवाए गए आवेदन पत्र पर पौधों की डिमांड ई-मेल के जरिये भेज सकते हैं, जंहा से उनकी पूरी सहायता की जायेगी, यही से उनकी पौधों की डिमांड प्राप्त की जायेगी।

पौधो की डिमांड डाक के माध्यम से भी भेजी जा सकती

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की अगर इंटरनेट की सुविधा नहीं है, तो डाक के माध्यम से भी डिमांड भेजी जा सकती है, इसी के साथ अब तक बागवानों को पौधों की डिमांड देने के लिए विश्वविद्यालय या संबंधित केंद्रों तक खुद जाना

पड़ता था, मगर अब यह कार्य बेहद आसान बना दिया गया है, जिस से किसानो और बागवानों को बहुत ही लाभ मिल पायेगा।

नौणी फलों के पौधों की वार्षिक बिक्री जनवरी के पहले सप्ताह में करने जा रहा

इसी के साथ बागवानी विवि नौणी फलों के पौधों की वार्षिक बिक्री जनवरी के पहले सप्ताह में करने जा रहा है, साथ ही सेब, नाशपाती, पलम, खुमानी, आड़ू, कीवी, अनार के पौधों के लिए बागवानों को 05 दिसंबर से पहले

अपनी मांग विवि को भेजनी होगी, जिसके बाद उन्हें पौधे उपलब्ध करवाए जाएंगे, साथ ही इस वेबसाइट से आवेदन पत्र डाउनलोड करने के बाद 05 दिसंबर तक भेजने भी होंगे।

मांग पत्र में किसानों को अपना ईमेल एवं वाट्सएप नंबर लिखना होगा

इसी के साथ यह भी कहा जा रहा है की मांग पत्र पर सभी प्रकार के पौधों की जानकारी दी गई है, साथ ही इस मांग पत्र में किसानों को अपना ईमेल एवं वाट्सएप नंबर लिखना होगा ताकि आवंटित होने वाले पौधों की

जानकारी उन्हें ऑनलाइन माध्यम से दी जा सके, साथ ही उन्हें पौधे लगाने का स्थान व जमीन का खसरा नंबर लिखना भी अनिवार्य है ताकि यह ज्ञात हो सके की आप उन पौधो को कहा लगाने वाले है।

डॉ. वाईएस परमार बागवानी विवि के कुलपति डॉ. परविंद्र कौशल ने दी जानकारी

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ डॉ. वाईएस परमार बागवानी विवि के कुलपति डॉ. परविंद्र कौशल का कहना है कि इस कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए पहली बार विवि ने यह सुविधा शुरू की है, ताकि प्रदेश के बागवानों और किसानो को अधिक परेशानी ना हो पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *