हिमाचल में सर्वाधिक बिकने वाले सेनेटाइजर की गुणवत्ता जांच की कवायद हुई शुरू

medicine cheking

हिमाचल प्रदेश में कोरोना काल में सर्वाधिक बिकने वाले सेनेटाइजर की गुणवत्ता जांच की कवायद शुरू हो गई है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की हिमाचल प्रदेश सहित बाहरी राज्यों की कंपनियों के

सेनेटाइजर के सैंपल एकत्रित कर जांच के लिए आरडीटीएल (रिजनल ड्रग्स टेस्टिंग लैबोरेटरी) चंडीगढ़ भेजे गए हैं, जिस के दौरान प्रदेश में विभिन्न

सेनेटाइजरो की जांच की जायेगी, इसी के साथ हिमाचल प्रदेश के जिला हमीरपुर के झनियारी, कांगू, बड़ा, व नादौन क्षेत्र से स्वास्थ्य महकमे ने सेनेटाइजर के सैंपल भरे हैं।

पेनकिल्लर, ब्लड प्रेशर, शुगर, एंटीबायोटिक दवाइयों के सैंपल भी जांच के लिए भेजे गए

इसी के साथ इसके साथ ही पेनकिल्लर, ब्लड प्रेशर, शुगर, एंटीबायोटिक दवाइयों के सैंपल भी जांच के लिए लगाए गए हैं, जंहा इन दवाइयों की जांच की जायेगी, इसी के साथ लॉकडाउन के बाद कार्रवाई करते हुए स्वास्थ्य

महकमे ने सेनेटाइजर सहित दवाइयों की गुणवत्ता जांच का अभियान तेज कर दिया है। इसी के साथ सेनेटाइजर के सैंपल जांच के लिए आरडीटीएल चंडीगढ़ तथा जबकि दवाइयों के सैंपल कंडाघाट लैब भेजे गए हैं।

कोरोना वायरस काल में कई कंपनियों ने मोटी कमाई के चक्कर में नकली सेनेटाइजर बनाए

इसी के साथ बताया जा रहा है की कोरोना वायरस काल में कई कंपनियों ने मोटी कमाई के चक्कर में नकली सेनेटाइजर बनाए जिस का पर्दा फाश हो रहा हैं, इसी के

साथ इनमें निर्धारित मापदंडों के अनुरूप सामग्री नहीं डाली गई थी जिस से इनमें एल्कोहल की बजाय मेथेनॉल का प्रयोग अधिक किया गया था।

सिर्फ कमाई के चक्कर में लोगों को बेवकूफ बनाया जा रहा

कहा जा रहा है की दिखने में तो सभी सेनेटाइजर एक जैसे ही लगते है, लेकिन यह कारगर सिद्ध नहीं होता। सिर्फ कमाई के चक्कर में लोगों को बेवकूफ बनाया जाता है।

इसी के चलते सेनेटाइजर के सैंपल एकत्रित किए गए हैं। बताया जा रहा है कि 45 के करीब सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। इनमें करीब 04 सैंपल सेनेटाइजर के हैं। जबकि अन्य सैंपल दवाइयों के भेजे गए हैं।

चंडीगढ़ में जांच के लिए एक ड्रग इंस्पेक्टर अपने क्षेत्र से अधिकतम 04 ही सैंपल भेज सके है

इसी के साथ आरडीटीएल चंडीगढ़ में जांच के लिए एक ड्रग इंस्पेक्टर अपने क्षेत्र से अधिकतम 04 ही सैंपल भेज सके है, इसी के साथ जाहिर है कि कोरोना काल में जब सेनेटाइजर का सर्वाधिक प्रयोग होने लगा,

तो कई कंपनियों निकलकर सामने आईं है। जिन्होंने सिर्फ सेनेटाइजर ही बनाए है। कई कंपनियां तो ऐसी सामने आ गईं, जिनके नाम तक नहीं सुने थे जिन को लेकर सवाल उठाये जा रहे है। तथा अब इस की जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *