बचे हुए खाद्य तेल से अब बायो डीजल बनाई गई गुजरात की कंपनी

bio diesel

हिमाचल प्रदेश में दुकानों या घरों में मिठाइयां बनाने या कुछ तलने के बाद बचे हुए खाद्य तेल से अब बायो डीजल बनाया जाएगा प्राप्त जानकारी के अनुसार गुजरात की एक कंपनी ने हिमाचल प्रदेश के जिला सोलन,

सिरमौर, शिमला जिलों से 25 फीसदी से कम कोलर कंपाउंड वाला खाद्य तेल 30 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से खरीदेगी जिस से बायो डीजल बनाया जाएगा।

अधिक कोलर युक्त तेल का इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक

इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार खाद्य तेल को बार-बार गर्म करने से उसमें कोलर कंपाउंड बढ़ जाते हैं, इसी के साथ अधिक कोलर युक्त तेल का इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है

इसी के साथ इससे हार्ट अटैक जैसी समस्याएं उतपन्न हो सकती हैं। लिहाजा ऐसे तेल का इस्तेमाल बायो डीजल बनाने के लिए किया जाएगा।

मिठाइयों का कारोबार करने वाले लोगों को इसका सबसे अधिक फायदा

इसी के साथ मिठाइयों का कारोबार करने वाले लोगों को इसका सबसे अधिक फायदा होगा, इसी के साथ अधिकतर दुकानों में तेल को बार-बार गर्म कर उसमें मिठाइयां व अन्य उत्पाद तले जाते हैं, जिससे कोलर कंपाउंड की मात्रा बढ़ने की आशंका बनी रहती है।

खाद्य सुरक्षा विभाग के सहायक आयुक्त अतुल कायस्था ने दी जानकारी

इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की बीते शुक्रवार को खाद्य सुरक्षा विभाग के सहायक आयुक्त अतुल कायस्था ने शहर के मिष्ठान विक्रेताओं के साथ बैठक कर इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी

इसी के साथ कायस्था ने बताया कि गुजरात की कंपनी ने हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर, सोलन और राजधानी शिमला से तेल की खरीद करेगी साथ ही दो या तीन

बार गर्म हुआ तेल 30 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से खरीदा जाएगा साथ ही इस तेल का इस्तेमाल कंपनी बायो डीजल बनाने के लिए करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *