मंडी के गांव जलाड़ के लोगो ने इस साल दिवाली पर पटाखे न जलाने की शपथ ग्रहण की

देश तथा प्रदेश में गंभीर होती पर्यावरण प्रदूषण की स्थिति को देखते हुए हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी जिले के लडभड़ोल के गांव जलाड़ के बाशिंदों ने इस साल दिवाली पर पटाखे न जलाने की शपथ ग्रहण की है, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अँसुअर बताया जा रहा है।

दिवाली के इस शुभ अवसर पर सिर्फ दीये जलाने का संकल्प लिया

इस साल साल ग्रामीणों ने इकट्ठे होकर दिवाली के इस शुभ अवसर पर सिर्फ दीये जलाने का संकल्प लिया है, इसी के साथ गांव के बुद्धिजीवी वर्ग, युवा, महिलाएं और बच्चों ने शपथ ली कि पर्यावरण बचाने के लिए वे हरसंभव कदम उठाएंगे।

दीपावली पर पटाखे न चलाना उनका यह पहला कदम

इसी के साथ इस साल दीपावली पर पटाखे न चलाना उनका यह पहला कदम है, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इस साल आगे भी इसी तरह पर्यावरण बचाने के लिए कदम उठाए जाएंगे, साथ ही

बताया जा रहा है की इस साल गान के सभी ग्रामीणों ने वायु प्रदूषण को बहुत ही खतरनाक बताया तथा इस साल पटाके न चलाने का निर्णय लिया।

पर्यावरण को आज न बचाया गया तो आने वाले समय में गंभीर स्थिति पैदा हो सकती

इसी के साथ बताया जा रहा है की उन्होंने कहा की पर्यावरण को आज न बचाया गया तो आने वाले समय में गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है, जिस बजह से प्रदेश वासियो को भारतवासियो को बहुत सी परेशानी का सामना कर पड़ सकता है।

वायु प्रदूषण को कम करने की दिशा में अहम कदम

इसी के साथ इसलिए आज जरूरत है वायु प्रदूषण को कम करने की दिशा में अहम कदम उठाया जाए, साथ ही उन्होंने कहा की सभी का कर्तव्य है कि पर्यावरण प्रदूषण को बढ़ने से रोका जाए और इसे कम करने के लिए कदम उठाए जाएं, ताकि इस पर्यावरण को लम्बे समय तक सुरक्षित रखा जा सके।

वायु प्रदूषण और भी ज्यादा घातक साबित हो रहा

इसी लिए आज कदम उठाएंगे तो कल बेहतर हो सकता है, इसी के साथ ग्रामीणों ने कहा कि कोरोना काल में वायु प्रदूषण ने दिक्कतें बढ़ा दी हैं, जिस बजह से कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के लिए वायु प्रदूषण और भी ज्यादा घातक साबित हो रहा है,

इसलिए सभी को संकल्प लेना होगा कि पर्यावरण बचाने के लिए प्रयास किए जाएं तथा वायु प्रदूषण को फैलने से रोका जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *