सरकार ने बिजली की सबसिडी कम करके लोगों को दिया बड़ा झटका

himachal pradedsh el

हिमाचल प्रदेश में नया बिजली मीटर लगाना महंगा हो गया है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की कोविड काल में सरकार ने बिजली की सबसिडी कम करके लोगों को एक बड़ा झटका दे दिया था, इसी के साथ

इस पर अब बिजली मीटर भी घर में लगाना महंगा हो गया है, इसी के साथ घरेलू कनेक्शन में यदि किसी ने बिजली का नया मीटर लगाना हो तो उसे 1,158 रुपए प्रति किलोवॉट के हिसाब से देने होंगे।

सिक्योरिटी राशि को लगभग 03 गुणा तक बढ़ा दिया गया

इसी के साथ जो कि पहले 360 रुपए प्रति किलोवॉट थे, बताया जा रहा है की अब एक किलोवॉट का मीटर नहीं लगता, उसका लोड ज्यादा होता है, जिसके हिसाब से अब ज्यादा पैसे चुकाने होंगे, ऐसे में आम जनता को इस से परेशानी हो सकती है। यह सिक्योरिटी राशि है, जिसे अब लगभग 03 गुणा तक बढ़ा दिया गया है।

उच्च न्यायालय में चल रहे एक मामले में हाई कोर्ट ने निर्देश दिए

जानकारी के अनुसार प्रदेश उच्च न्यायालय में चल रहे एक मामले में हाई कोर्ट ने निर्देश दिए हैं कि राज्य विद्युत नियामक आयोग बिजली मीटर की सिक्योरिटी की राशि बढ़ाए जिस के बाद यह राशि बड़ाई गयी है।

इसी के साथ बताया जा रहा है की आयोग ने इस पर कहा कि बिजली बोर्ड को हाई कोर्ट निर्देश कर सकता है,साथ ही उन्होंने यह भी कहा की जिस पर बोर्ड प्रस्ताव डालेगा, इस पर बोर्ड ने अपना प्रस्ताव निर्देशानुसार दिया,

जिसे नियामक आयोग ने मान लिया है, साथ ही मगर अभी हाई कोर्ट से आखिरी फैसला आना बाकि है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताय जा रहा है की वहीं रिव्यू पिटीशन भी यहां चल रही है।

अंतिम आदेश आने तक फिलहाल नए बिजली मीटर पर नया टैरिफ लगेगा

साथ ही अंतिम आदेश आने तक फिलहाल नए बिजली मीटर पर नया टैरिफ लगेगा, यानि ज्यादा सिक्योरिटी राशि लगेगी,इसी के साथ औद्योगिक इकाइयों

को भी महंगी दरों को सहना पड़ेगा, साथ ही जिनके लिए पहले एक हजार रुपए प्रति केवीए की दर मीटर सिक्योरिटी के रूप में तय थी।

हाई कोर्ट के निर्देशों पर ऐसा किया गया

अब बढ़ाकर 4,882 रुपए प्रति केवीए कर दी गई है, साथ ही बिजली नियामक आयोग के अध्यक्ष ई. डीके शर्मा का कहना है कि हाई कोर्ट के निर्देशों पर ऐसा

किया गया है, लेकिन अभी इसमें अंतिम आदेश आने बाकि है। अब हाई कोर्ट के अंतिम फैसले पर सब की नजर है की कोर्ट इस मामले में क्या फैसला लेता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *