गंभीर कोरोना मरीजों को वेंटिलेटर पर ना रखने की सलाह एम्स के विशेषज्ञों ने दी

ventilater

देश प्रदेश में फैले कोरोना महामारी की बजह से हर कोई परेशान है, हर दिन कोई न कोई कोरोना संक्रमित का मामला सामने आ रहा है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इसी कोरोना वायरस को लेकर एक नए निर्देश आये है।

बताया जा रहा है की कोरोना वायरस के गंभीर मरीजों को वेंटिलेटर पर रखना सही नहीं है, साथ ही वेंटिलेटर पर रोगियों का सरवाइवल रेट बहुत ही कम है, जिस बजह कोरोना मरीजों को वेंटिलेटर पर ना रखने के सलाह दी जा रही है।

एम्स दिल्ली के विशेषज्ञों ने यह सलाह दी

यह अहम सुचना देश के सबसे लोकप्रिय अस्पताल एम्स दिल्ली के विशेषज्ञों ने दी है, साथ ही बताया जा रहा है की हाल ही में हुई एम्स के विशेषज्ञों के साथ वीडियो

कॉन्फ्रेंस में हिमाचल प्रदेश के मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञों को कोविड संक्रमण के गंभीर रोगियों को वेंटिलेटर पर ना रखने की सलाह दी गयी है।

मंडी के नेरचौक मेडिकल कॉलेज में वेंटिलेटर पर रखे गए संक्रमितों का सरवाइवल रेट जारी

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि हिमाचल के जिला मंडी के नेरचौक मेडिकल कॉलेज में वेंटिलेटर पर रखे गए संक्रमितों का सरवाइवल रेट जारी है, इसी के साथ मंडी जिले में अब तक कोरोना वायरस से करीब 61 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है।

साथ ही यहां 50 के करीब संक्रमितों को गंभीर अवस्था में वेंटिलेटर पर रखा गया था, लेकिन इन में से किसी को नहीं बचाया जा सका है, कोरोना महामारी के बीच केंद्र सरकार ने हिमाचल प्रदेश को 500 वेंटिलेटर निशुल्क दिए हैं।

अकेले मंडी जिले को ही 46 के करीब वेंटिलेटर

बताया जा रहा है की इनमें 178 ट्रांसपोर्ट, जबकि अन्य ICU वेंटिलेटर स्तिथ हैं, इसी के साथ अकेले मंडी जिले को ही 46 के करीब वेंटिलेटर दिए गए हैं, साथ ही

मंडी के नेरचौक मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आरसी ठाकुर ने माना कि वेंटिलेटर पर कोविड संक्रमितों का सरवाइवल रेट बहुत ही कम है।

कोविड संक्रमण के गंभीर रोगियों को वेंटिलेटर पर न रखने की सलाह

साथ ही उन्होंने कहा कि हाल ही में एम्स दिल्ली के विशेषज्ञों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस हुई है। जिसमें कोविड संक्रमण के गंभीर रोगियों को वेंटिलेटर पर न रखने की सलाह दी है,

जिस का कारण सरवाइवल रेट कम होना है, इसी लिए कोरोना के गंभीर मरीजों को अब वेंटिलेटर पर ना रखने की सलाह दी गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *