प्रदेश की सौर पंचायत को पानी के बेहतर उपयोग और संग्रहण के लिए तीसरा स्थान

panchyat

हिमाचल प्रदेश में जलशक्ति मंत्रालय की ओर से हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले की सौर पंचायत को पानी के बेहतर उपयोग और संग्रहण के लिए उत्तर भारत में तीसरा स्थान हासिल हुआ है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की पहले स्थान पर उत्तराखंड की रुद्रप्रयाग पंचायत और दूसरे स्थान पर छत्तीसगढ़ की रामपुर पंचायत शामिल रही है।

देशभर में लाखों पंचायतो में से राष्ट्रीय स्तर पर केवल 15 पंचायतों को ही नेशनल वाटर अवार्ड का सम्मान

इसी के साथ बताया जा रहा है की देशभर में लाखों पंचायतें है लेकिन, राष्ट्रीय स्तर पर केवल 15 पंचायतों को ही नेशनल वाटर अवार्ड से सम्मानित किया गया है, इसी के साथ उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और जल शक्ति मंत्री

गजेंद्र शेखावत ने पंचायत की प्रधान लक्ष्मी शर्मा को प्रशस्ति पत्र के साथ नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है। इसी के साथ उन्होंने ऑनलाइन हुए इस कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश की इस पहली पंचायत की भी सराहना की है, जिसे यह पुरस्कार मिला है।

वर्ष 2008 में यह पंचायत संपूर्ण स्वच्छता अभियान के तहत हिमाचल प्रदेश में अव्वल रही

इसी के साथ हिमाचल प्रदेश में स्तिथ इस पंचायत प्रधान लक्ष्मी शर्मा दूसरी बार इस पंचायत की प्रधान बनी हैं, साथ ही पहले कार्यकाल में वर्ष 2008 में यह

पंचायत संपूर्ण स्वच्छता अभियान के तहत हिमाचल प्रदेश में अव्वल रही तथा हरियाणा के हिसार में पंचायत को तत्कालीन राष्ट्रपति ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया था।

85 टैंक तैयार कराए गए तथा एक दर्जन से अधिक तालाब और इतनी ही कूहलें भी बनाईं गयी

जानकारी के अनुसार इसके अलावा मनरेगा मे बेहतर कार्य करने के लिए भी इस पंचायत को हर वर्ष ब्लॅाक स्तर पर सम्मानित किया जाता है, साथ ही वर्ष 2016 में लक्ष्मी शर्मा दोबारा पंचायत प्रधान बनीं है तथा इसके बाद

लक्ष्मी शर्मा ने पूरी पंचायत में मनरेगा के तहत किसानों के खेत तैयार कराए गए है साथ ही पूरी पंचायत में सिंचाई व्यवस्था के लिए 85 टैंक तैयार कराए गए तथा एक दर्जन से अधिक तालाब और इतनी ही कूहलें भी बनाईं गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *